• इंसान भी कितना अनोखा जीव है, पहले भिखारी बन कर भगवान से हाथ जोड़ कर माँगता है।<br/>
फिर गर्व से उसी भगवान को दान देकर नीचे अपना नाम लिखा कर अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करता है।Upload to Facebook
    इंसान भी कितना अनोखा जीव है, पहले भिखारी बन कर भगवान से हाथ जोड़ कर माँगता है।
    फिर गर्व से उसी भगवान को दान देकर नीचे अपना नाम लिखा कर अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करता है।
  • किसी ने ईश्वर से कहा, `मैं ज़िन्दगी से घृणा करता हूँ।`<br/>
ईश्वर ने कहा, `तुमसे किसने कहा कि ज़िन्दगी से प्यार करो। तुम तो बस उसे चाहो जो तुम्हें चाहता हो, ज़िन्दगी अपने आप खूबसूरत हो जाएगी।`Upload to Facebook
    किसी ने ईश्वर से कहा, "मैं ज़िन्दगी से घृणा करता हूँ।"
    ईश्वर ने कहा, "तुमसे किसने कहा कि ज़िन्दगी से प्यार करो। तुम तो बस उसे चाहो जो तुम्हें चाहता हो, ज़िन्दगी अपने आप खूबसूरत हो जाएगी।"
  • उन्ही को मिली सारी ऊँचाइयाँ, जो गिरते रहे और संभलते रहे।Upload to Facebook
    उन्ही को मिली सारी ऊँचाइयाँ, जो गिरते रहे और संभलते रहे।
  • तेरी आरज़ू में हमने बहारों को देखा;<br/>
तेरी जुस्तजू में हमने सितारों को देखा;<br/>
नहीं मिला इससे बढ़कर इन निगाहों को कोई;<br/>
हमने जिसके लिए सारे जहान को देखा।<br/>
शुभ रात्रि!Upload to Facebook
    तेरी आरज़ू में हमने बहारों को देखा;
    तेरी जुस्तजू में हमने सितारों को देखा;
    नहीं मिला इससे बढ़कर इन निगाहों को कोई;
    हमने जिसके लिए सारे जहान को देखा।
    शुभ रात्रि!
  • पानी की बूँदें फूलों को भिगा रही हैं;<br/>
ठंडी हवायें एक ताज़गी का एहसास दिला रही हैं;<br/>
हो जाएं आप भी इनमे शामिल;<br/>
आकर एक प्यारी सी सुबह आपको जगा रही है।<br/>
सुप्रभात!Upload to Facebook
    पानी की बूँदें फूलों को भिगा रही हैं;
    ठंडी हवायें एक ताज़गी का एहसास दिला रही हैं;
    हो जाएं आप भी इनमे शामिल;
    आकर एक प्यारी सी सुबह आपको जगा रही है।
    सुप्रभात!
  • इस ठण्ड में ग़ालिब का नया शेर:
    खुद को कर बुलंद इतना कि, हर सुबह घूमने निकले;
    वहाँ खुदा खुद आकर पूछे, बता तेरी रजाई कहाँ है?
  • कोयल ने कौवे से पूछा,<br/>
`अभी तक शादी क्यों नहीं की?`<br/>
कौवा: बिना शादी के ही जिंदगी में इतनी काँव-काँव हैं तो शादी के बाद कितनी होगी!Upload to Facebook
    कोयल ने कौवे से पूछा,
    "अभी तक शादी क्यों नहीं की?"
    कौवा: बिना शादी के ही जिंदगी में इतनी काँव-काँव हैं तो शादी के बाद कितनी होगी!
  • रिश्तों को बहुत ही सावधानी से निभाना चाहिए क्योंकि रिश्तों की डोर बड़ी नाज़ुक होती है,
    जरा सी बात पे कैसे एक रिश्ता टूट जाता है, उदाहरण देखें...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "मूँगफली में दाना नहीं ... हम तुम्हारे नाना नहीं"!
  • संसार बहुत से अच्छे लोगों से भरा पड़ा है अगर फिर भी तुम्हें कोई न मिल पाये तो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    डूब के मर जाओ, मेरा नंबर नहीं है क्या तुम्हारे पास?
  • ऑपरेशन के बाद मरीज़: डॉक्टर साहब, क्या अब मैं रोग मुक्त हूँ?<br/>
सामने से जवाब मिला: बेटा, डॉक्टर साहब तो धरती पर ही रह गए, मैं तो चित्र गुप्त हूँ।Upload to Facebook
    ऑपरेशन के बाद मरीज़: डॉक्टर साहब, क्या अब मैं रोग मुक्त हूँ?
    सामने से जवाब मिला: बेटा, डॉक्टर साहब तो धरती पर ही रह गए, मैं तो चित्र गुप्त हूँ।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT