• पत्नी(पति से): क्या शादी जन्नत का दरवाज़ा है?<br />
पति: हाँ, मगर जन्नत से बाहर जाने का।Upload to Facebook
    पत्नी(पति से): क्या शादी जन्नत का दरवाज़ा है?
    पति: हाँ, मगर जन्नत से बाहर जाने का।
  • हमारे देश में "हंसी - मजाक" भी बिजली की तरह है। आधे से ज्यादा लोगों के नसीब में नहीं।
  • लड़की: और क्या चल रहा है?<br />
लड़का: वही जो तेरे पास नहीं है।<br />
लड़की: क्या?<br />
लड़का: दिमाग।Upload to Facebook
    लड़की: और क्या चल रहा है?
    लड़का: वही जो तेरे पास नहीं है।
    लड़की: क्या?
    लड़का: दिमाग।
  • संता का बॉस: कल जब एक्सीडेंट हुआ तो तुम क्या नशे मे थे?<br />
संता: नहीं सर।<br />
बॉस: तो शाम को 5 बजे तुम अंधे हो जाते हो जो मेरी गाड़ी ठोक के मुझे ही नही पहचाना?Upload to Facebook
    संता का बॉस: कल जब एक्सीडेंट हुआ तो तुम क्या नशे मे थे?
    संता: नहीं सर।
    बॉस: तो शाम को 5 बजे तुम अंधे हो जाते हो जो मेरी गाड़ी ठोक के मुझे ही नही पहचाना?
  • खोकर पाने का मज़ा ही कुछ और है;<br />
रोने के बाद मुस्कुराने का मज़ा ही कुछ और है;<br />
हार तो जिंदगी का हिस्सा है मेरे दोस्त;<br />
हारने के बाद जीतने का मज़ा ही कुछ और है।Upload to Facebook
    खोकर पाने का मज़ा ही कुछ और है;
    रोने के बाद मुस्कुराने का मज़ा ही कुछ और है;
    हार तो जिंदगी का हिस्सा है मेरे दोस्त;
    हारने के बाद जीतने का मज़ा ही कुछ और है।
  • ऊपर जिसका अंत नहीं उसे 'आसमां' कहते हैं और  इस जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे 'माँ' कहते हैं।Upload to Facebook
    ऊपर जिसका अंत नहीं उसे 'आसमां' कहते हैं और इस जहाँ में जिसका अंत नहीं उसे 'माँ' कहते हैं।
  • कोई समझे ना समझे हम को बेशक मगर आप तो समझते हैं;<br />
अपना बनाते हैं मेरे हर गम को तभी तो हम संभलते हैं;<br />
खुदा हर एक ख़ुशी दे आपको हर एक गम हमको नसीब हो;<br />
बस यही दिल में सोचकर हर एक दुआ करते हैं।<br />
सुप्रभात!Upload to Facebook
    कोई समझे ना समझे हम को बेशक मगर आप तो समझते हैं;
    अपना बनाते हैं मेरे हर गम को तभी तो हम संभलते हैं;
    खुदा हर एक ख़ुशी दे आपको हर एक गम हमको नसीब हो;
    बस यही दिल में सोचकर हर एक दुआ करते हैं।
    सुप्रभात!
  • समझदार लोग हमेशा यह क्यों कहते हैं कि मैं अभी "Busy" हूँ।
    सोचो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    सोचो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    बाद में बताऊंगा। मैं अभी "Busy" हूँ।
  • तेरी माँ की
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    मैं बहुत इज़्ज़त करता हूँ।
    उनको मेरा चरण स्पर्श।
  • टीचर पप्पू को डाँटते हुए: तुम्हारे इतने कम नंबर क्यों हैं? कुछ पढ़ा नहीं था क्या?<br />
पप्पू: टीचर मैं तो सुबह चार बजे उठ गया था पढ़ने के लिए।<br />
टीचर: फिर?<br />
पप्पू: फिर मैं बाथरूम गया और वहीं सो गया।Upload to Facebook
    टीचर पप्पू को डाँटते हुए: तुम्हारे इतने कम नंबर क्यों हैं? कुछ पढ़ा नहीं था क्या?
    पप्पू: टीचर मैं तो सुबह चार बजे उठ गया था पढ़ने के लिए।
    टीचर: फिर?
    पप्पू: फिर मैं बाथरूम गया और वहीं सो गया।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT