• दूर हो जाने से रिश्ते नहीं टूटते;<br />
न ही सिर्फ पास रहने से जुड़ते हैं;<br />
ये तो दिलों के बंधन हैं इसलिए;<br />
हम तुम्हें और तुम हमें नहीं भूलते।Upload to Facebook
    दूर हो जाने से रिश्ते नहीं टूटते;
    न ही सिर्फ पास रहने से जुड़ते हैं;
    ये तो दिलों के बंधन हैं इसलिए;
    हम तुम्हें और तुम हमें नहीं भूलते।
  • तेरी याद में आंसुओं का समंदर बना लिया;<br />
तन्हाई के शहर में अपना घर बना लिया;<br />
सुना है लोग पूजते हैं पत्थर को;<br />
इसलिए तुझसे जुदा होने के बाद दिल को पत्थर बना लिया।Upload to Facebook
    तेरी याद में आंसुओं का समंदर बना लिया;
    तन्हाई के शहर में अपना घर बना लिया;
    सुना है लोग पूजते हैं पत्थर को;
    इसलिए तुझसे जुदा होने के बाद दिल को पत्थर बना लिया।
  • उबाल इतना भी ना हो कि खून सूख कर उड़ जाए;<br />
धैर्य इतना भी ना हो कि, खून जमें तो फिर खौल ही ना पाए।Upload to Facebook
    उबाल इतना भी ना हो कि खून सूख कर उड़ जाए;
    धैर्य इतना भी ना हो कि, खून जमें तो फिर खौल ही ना पाए।
  • एक बात हमेशा याद रखना:<br />
ढूंढने पर वही मिलेंगे जो खो गए थे, वो कभी नहीं मिलेंगे जो बदल गए हैं।Upload to Facebook
    एक बात हमेशा याद रखना:
    ढूंढने पर वही मिलेंगे जो खो गए थे, वो कभी नहीं मिलेंगे जो बदल गए हैं।
  • पाकिस्तानी (हिंदुस्तानी से): भाई, तुम लोग `वर्ल्ड कप` में मैच कैसे जीतने लग जाते हो?<br />
हिंदुस्तानी: हमारी `पूनम पांडे` `वर्ल्ड कप`  के दौरान हमें बहुत प्रोत्साहित करती है।Upload to Facebook
    पाकिस्तानी (हिंदुस्तानी से): भाई, तुम लोग "वर्ल्ड कप" में मैच कैसे जीतने लग जाते हो?
    हिंदुस्तानी: हमारी "पूनम पांडे" "वर्ल्ड कप" के दौरान हमें बहुत प्रोत्साहित करती है।
  • इससे ज्यादा बेरहमी की इन्तहा और क्या होगी ग़ालिब;
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    बाप ने लड़के को पीटने की बजाय उसका नेट कनेक्शन बंद करवा दिया।
  • तुम हँसते रहो,
    मुस्कुराते रहो,
    नाचते रहो,
    सदा खिल-खिलाते रहो;
    मेरा क्या है,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    लोग तुम्हें ही पाग़ल समझेंगे।
  • अगला मैच UAE से है, इंसानियत के नाते उन्हें डराना नहीं चाहिए, जितनी उनकी जनसंख्या है उससे ज्यादा तो हमारे यहाँ 10वीं में बच्चे फेल हो जाते हैं।
  • पप्पू: यार मैं चाहता हूँ कि जब मैं मरने लगूं तो भगवान मुझे पांच मिनट और दे दे।<br />
बंटी: क्यों, तू अपने पापों का प्राश्चित करना चाहते हो?<br />
पप्पू: अबे नहीं मोबाइल भी तो फॉर्मेट करना पड़ेगा, नहीं तो मरने के बाद भी घर वाले गालियाँ देंगे।Upload to Facebook
    पप्पू: यार मैं चाहता हूँ कि जब मैं मरने लगूं तो भगवान मुझे पांच मिनट और दे दे।
    बंटी: क्यों, तू अपने पापों का प्राश्चित करना चाहते हो?
    पप्पू: अबे नहीं मोबाइल भी तो फॉर्मेट करना पड़ेगा, नहीं तो मरने के बाद भी घर वाले गालियाँ देंगे।
  • वो बचपन था जब शामें हुआ करती थी;<br />
अब तो सुबह के बाद सीधे रात ही होती है।Upload to Facebook
    वो बचपन था जब शामें हुआ करती थी;
    अब तो सुबह के बाद सीधे रात ही होती है।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT