पठान: तुम्हें पता है मुझे दिव्य दृष्टि मिल गयी है। मुझे आँखें बंद कर के भी दिखाई देता है।
सिंधी: अच्छा तो आँखें बंद करो और बताओ कि क्या दिख रहा है?
पठान(आँखे बंद कर): अब चारों तरफ अँधेरा हो गया है।
Send to your FB Contact's Inbox directly
पत्नी ने अपने पति से पूछा, "जब हमने शादी की थी तब तो आप मुझे बड़े प्रशंसनीय नामों से बुलाते थे, जैसे मेरी रस मलाई, मेरी बरफी, मेरी रबड़ी..लेकिन अब इन नामों से क्यों नहीं बुलाते?"
पति: दूध की मिठाई कितने दिन ताज़ी रहेगी।
Send to your FB Contact's Inbox directly
रिश्तों की है यह दुनिया निराली;
सब रिश्तों से प्यारी है यह दोस्ती तुम्हारी;
मंज़ूर हैं आँसू भी आँखों में तुम्हारी;
ऐ दोस्त अगर आ जाये होंठों पे मुस्कान तुम्हारी।
Send to your FB Contact's Inbox directly
वो क्या जिसमे 4 उँगलियाँ और एक अंगूठा है, पर उसमे जान नहीं है?
Send to your FB Contact's Inbox directly
किस्मत ने तुमसे दूर कर दिया;
अकेलेपन ने दिल को मज़बूर कर दिया;
हम भी ज़िंदगी से मुँह मोड़ लेते मगर;
तुम्हारे इंतज़ार ने जीने पर मज़बूर कर दिया।
Send to your FB Contact's Inbox directly
हर कामयाबी पे तुम्हारा नाम होगा;
तुम्हारे हर कदम पे दुनिया का सलाम होगा;
डट कर करना सामना तुम मुश्किलों का;
एक दिन वक़्त भी तुम्हारा गुलाम होगा।
Send to your FB Contact's Inbox directly
अगर दूसरों को दुखी देख कर आपको भी दुःख होता है तो समझ लो कि भगवान ने आपको बना कर कोई गलती नहीं की है।
Send to your FB Contact's Inbox directly
तू जहाँ रहे वहाँ मेरी दुआओं की छाँव हो;
वो शहर हो फिर चाहे गाँव हो;
तेरी आँखों में कभी कोई गम ना हो;
बस यही दुआ है हमारी कि तेरी खुशियां कभी कम ना हों।
शुभ रात्रि!
Send to your FB Contact's Inbox directly
भोर प्रभात के होते ही सृष्टि सारी निखर गयी;
रात के सारी घेराबन्धी, एक पल में ही बिखर गयी;
चढ़ कर आया जब सूरज ऊपर गगन में;
फ़ैल गयी यह रौशनी सारे चमन में।
सुप्रभात!
Send to your FB Contact's Inbox directly
खुशनसीब होती है वो बहन जिसे भाई का प्यार मिलता है;
खुशनसीब होते हैं लोग जिन्हें यह संसार मिलता है।
भाई दूज के त्यौहार की सभी को शुभ कामनायें!
Send to your FB Contact's Inbox directly
English SMS
Hindi SMS
November 2014
SunMonTueWedThuFriSat
      
1
2
3
5
7
8
9
10
11
12
13
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
28
29
30