• वो जिसके पास जीने का कारण है कुछ भी सहन कर सकता है।
    वो जिसके पास जीने का कारण है कुछ भी सहन कर सकता है।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • आपका अपना रास्ता है। मेरा अपना रास्ता है। जहाँ तक सही रास्ते, उचित रास्ते, और एक ही रास्ते की बात है, वो एग्जिस्ट नहीं करता।
    आपका अपना रास्ता है। मेरा अपना रास्ता है। जहाँ तक सही रास्ते, उचित रास्ते, और एक ही रास्ते की बात है, वो एग्जिस्ट नहीं करता।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • हमे हर उस दिन को खोया हुआ समझना चाहिए जिस दिन हमने एक बार भी डांस ना किया हो।
    हमे हर उस दिन को खोया हुआ समझना चाहिए जिस दिन हमने एक बार भी डांस ना किया हो।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • जो कोई भी राक्षसों से लड़ता है उसे ध्यान रखना चाहिए कि इस प्रक्रिया में कहीं वो खुद ही राक्षस ना बन जाए और अगर आप लम्बे समय तक खायी को घूरते हैं तो खायी भी आपको घूरने लगेगी।
    जो कोई भी राक्षसों से लड़ता है उसे ध्यान रखना चाहिए कि इस प्रक्रिया में कहीं वो खुद ही राक्षस ना बन जाए और अगर आप लम्बे समय तक खायी को घूरते हैं तो खायी भी आपको घूरने लगेगी।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • हमे हर उस दिन को खोया हुआ समझना चाहिए जिस दिन हमने एक बार भी डांस ना किया हो।
    हमे हर उस दिन को खोया हुआ समझना चाहिए जिस दिन हमने एक बार भी डांस ना किया हो।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • हमें हर उस सत्य को असत्य कहना चाहिए जिसके साथ कम से में एक हँसी ना रही हो!
    हमें हर उस सत्य को असत्य कहना चाहिए जिसके साथ कम से में एक हँसी ना रही हो!
    ~ Friedrich Nietzsche
  • इस दुनिया मे प्यार की कमी नही है, बस कमी है तो दोस्ती की । जिसकी वजह से दुखी वैवाहिक जीवन बन जाता है।
    इस दुनिया मे प्यार की कमी नही है, बस कमी है तो दोस्ती की । जिसकी वजह से दुखी वैवाहिक जीवन बन जाता है।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • बिना अपने ओपिनियंस के रीज़न को याद रखे अपने ओपिनियंस को याद रखना बेहद कठिन है।
    बिना अपने ओपिनियंस के रीज़न को याद रखे अपने ओपिनियंस को याद रखना बेहद कठिन है।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • ये प्यार की कमी नहीं, बल्कि दोस्ती की कमी है जो शादियों को दुखदायी बनाती है।
    ये प्यार की कमी नहीं, बल्कि दोस्ती की कमी है जो शादियों को दुखदायी बनाती है।
    ~ Friedrich Nietzsche
  • सबसे शिक्षाप्रद अनुभव रोजमर्रा की जिंदगी के हैं।
    सबसे शिक्षाप्रद अनुभव रोजमर्रा की जिंदगी के हैं।
    ~ Friedrich Nietzsche