• काम आदमी की सजा नहीं है। यह उसका इनाम और उसकी ताकत और उसकी खुशी है।
    काम आदमी की सजा नहीं है। यह उसका इनाम और उसकी ताकत और उसकी खुशी है।
    ~ George Sand
  • काम आदमी की सजा नहीं है। यह उसका इनाम और उसकी ताकत और उसकी खुशी है।
    ~ George Sand