• शीशा टूटे ग़ुल मच जाए;
    दिल टूटे आवाज़ न आए।
    ~ Hafeez Merathi