• जुदाइयों के तसव्वुर ही से रुलाऊं उसे;<br/>
मैं झूठ मूठ का किस्सा कोई सुनाऊं उसे!
Upload to Facebook
    जुदाइयों के तसव्वुर ही से रुलाऊं उसे;
    मैं झूठ मूठ का किस्सा कोई सुनाऊं उसे!
    ~ Hamid Iqbal Siddiqui