• हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका;<br/>
मुस्कुरा कर तुम ने देखा दिल तुम्हारा हो गया!
Upload to Facebook
    हम ने सीने से लगाया दिल न अपना बन सका;
    मुस्कुरा कर तुम ने देखा दिल तुम्हारा हो गया!
    ~ Jigar Moradabadi
  • कुछ खटकता तो है पहलू में मिरे रह रह कर;<br/>
अब ख़ुदा जाने तिरी याद है या दिल मेरा।Upload to Facebook
    कुछ खटकता तो है पहलू में मिरे रह रह कर;
    अब ख़ुदा जाने तिरी याद है या दिल मेरा।
    ~ Jigar Moradabadi
  • कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया;<br/>
जिस को ख़ाना-ख़राब होना था।<br/><br/>


कूचा-ए-इश्क़  =  प्यार की गली<br/>
ख़ाना-ख़राब  =  बर्बादUpload to Facebook
    कूचा-ए-इश्क़ में निकल आया;
    जिस को ख़ाना-ख़राब होना था।

    कूचा-ए-इश्क़ = प्यार की गली
    ख़ाना-ख़राब = बर्बाद
    ~ Jigar Moradabadi
  • ज़िंदगी निकली मुसलसल इम्तिहाँ-दर-इम्तिहाँ;<br/>
ज़िंदगी को दास्ताँ ही दास्ताँ समझा था मैं!<br/><br/>
Meaning:<br/><br/>

मुसलसल  -  लगातार, निरंतरUpload to Facebook
    ज़िंदगी निकली मुसलसल इम्तिहाँ-दर-इम्तिहाँ;
    ज़िंदगी को दास्ताँ ही दास्ताँ समझा था मैं!

    Meaning:

    मुसलसल - लगातार, निरंतर
    ~ Jigar Moradabadi
  • अरबाबे-सितम की खिदमत में इतनी ही गुजारिश है मेरी;<br/>
दुनिया से कयामत दूर सही, दुनिया की कयामत दूर नहीं।<br/><br/>

Meaning:<br/>
अरबाबे-सितम  =  सितम ढाने वालाUpload to Facebook
    अरबाबे-सितम की खिदमत में इतनी ही गुजारिश है मेरी;
    दुनिया से कयामत दूर सही, दुनिया की कयामत दूर नहीं।

    Meaning:
    अरबाबे-सितम = सितम ढाने वाला
    ~ Jigar Moradabadi
  • कारगाहे-हयात में ऐ दोस्त यह हकीकत मुझे नजर आई;<br/>
हर उजाले में तीरगी देखी, हर अंधेरे में रौशनी पाई।<br/><br/>
Meaning:<br/>
1. कारगाहे - कार्यालय, कार्य करने का स्थान <br/>
2. तीरगी - अंधेरा, अँधियारा।Upload to Facebook
    कारगाहे-हयात में ऐ दोस्त यह हकीकत मुझे नजर आई;
    हर उजाले में तीरगी देखी, हर अंधेरे में रौशनी पाई।

    Meaning:
    1. कारगाहे - कार्यालय, कार्य करने का स्थान
    2. तीरगी - अंधेरा, अँधियारा।
    ~ Jigar Moradabadi
  • उन्हें सआदते-मंजिल-रसी नसीब क्या होगी;<br/>
वह पाँव जो राहे-तलब में डगमगा न सके।<br/><br/>
अर्थ:<br/>
1. सआदते - प्रताप, तेज, इकबाल <br/>
2. रसी - मंजिल की प्राप्ति, मंजिल तक पहुंच <br/>
3. राहे-तलब - रास्ते की खोजUpload to Facebook
    उन्हें सआदते-मंजिल-रसी नसीब क्या होगी;
    वह पाँव जो राहे-तलब में डगमगा न सके।

    अर्थ:
    1. सआदते - प्रताप, तेज, इकबाल
    2. रसी - मंजिल की प्राप्ति, मंजिल तक पहुंच
    3. राहे-तलब - रास्ते की खोज
    ~ Jigar Moradabadi
  • आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं;<br/>
जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं।<br/><br/>
Meaning:<br/>
शय - चीजUpload to Facebook
    आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ मैं;
    जैसे हर शय में किसी शय की कमी पाता हूँ मैं।

    Meaning:
    शय - चीज
    ~ Jigar Moradabadi
  • अब क्या जवाब दूँ मैं, कोई मुझे बताये;<br/> 
वह मुझसे कह रहे हैं, क्यों मेरी आरज़ू की।Upload to Facebook
    अब क्या जवाब दूँ मैं, कोई मुझे बताये;
    वह मुझसे कह रहे हैं, क्यों मेरी आरज़ू की।
    ~ Jigar Moradabadi
  • निगाहों का मर्कज़ बना जा रहा हूँ;
    मोहब्बत के हाथों लुटा जा रहा हूँ;

    मैं क़तरा हूँ लेकिन ब-आग़ोशे-दरिया;
    अज़ल से अबद तक बहा जा रहा हूँ;

    वही हुस्न जिसके हैं ये सब मज़ाहिर;
    उसी हुस्न से हल हुआ जा रहा हूँ;

    न जाने कहाँ से न जाने किधर को;
    बस इक अपनी धुन में उड़ा जा रहा हूँ;

    न सूरत न मआनी न पैदा, न पिन्हाँ
    ये किस हुस्न में गुम हुआ जा रहा हूँ।
    ~ Jigar Moradabadi