• आदम का जिस्म जब कि अनासिर से मिल बना;<br/>
कुछ आग बच रही थी सो आशिक़ का दिल बना!
    आदम का जिस्म जब कि अनासिर से मिल बना;
    कुछ आग बच रही थी सो आशिक़ का दिल बना!
    ~ Mohammad Rafi Sauda