• अपने कार्य के पीछे की मंशा को देखो, अक्सर तुम उस चीज के लिए नहीं जाते जो तुम्हे सच में चाहिए|
    अपने कार्य के पीछे की मंशा को देखो, अक्सर तुम उस चीज के लिए नहीं जाते जो तुम्हे सच में चाहिए|
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • दूसरों को सुनो; फिर भी मत सुनो| अगर तुम्हारा दिमाग उनकी समस्याओं में उलझ जाएगा, ना सिर्फ वो दुखी होंगे, बल्कि तुम भी दुखी हो जओगे|
    दूसरों को सुनो; फिर भी मत सुनो| अगर तुम्हारा दिमाग उनकी समस्याओं में उलझ जाएगा, ना सिर्फ वो दुखी होंगे, बल्कि तुम भी दुखी हो जओगे|
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • मानव विकास के दो चरण हैं- कुछ होने से कुछ ना होना; और कुछ ना होने से सबकुछ होना, यह ज्ञान दुनिया भर में योगदान और देखभाल ला सकता है|
    मानव विकास के दो चरण हैं- कुछ होने से कुछ ना होना; और कुछ ना होने से सबकुछ होना, यह ज्ञान दुनिया भर में योगदान और देखभाल ला सकता है|
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • प्रेम एक भावना नहीं है। यह आपका अस्तित्व है।
    प्रेम एक भावना नहीं है। यह आपका अस्तित्व है।
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • जीवन ऐसा कुछ नहीं है जिसके प्रति बहुत गंभीर रहा जाए। जीवन तुम्हारे हाथों में खेलने के लिए एक गेंद है। गेंद को पकड़े मत रहो।
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • प्रेम कोई भावना नहीं है। यह आपका अस्तित्व है।
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • प्यार अधूरा होता है और उसे अधूरा ही रहना होगा। अगर कुछ पूरा है तो उसका मतलब है कि उसकी सीमाएं तय की गयी हैं।
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
  • श्रद्धा यह समझने में है कि आप हमेशा वो पा जाते हैं जिसकी आपकी ज़रुरत होती है।
    ~ Sri Sri Ravi Shankar
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT