• आज से मोदी का नौंवा महीना शुरू हो गया है।
    "विकास" कभी भी पैदा हो सकता है।
  • एक सवाल मुझे बार-बार परेशान कर रहा है कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    छोटी "abcd" बड़ी "ABCD" से कितने साल छोटी है?
  • संता अपनी बीमारी की वजह से डॉक्टर के पास गया।<br/>
डॉक्टर: आपकी बीमारी की सही वजह मेरी समझ में नहीं आ रही। हो सकता है दारु पीने की वजह से ऐसा हो रहा हो।<br/>
संता: कोई बात नहीं डॉक्टर साहब, जब आपकी उतर जाएगी तो मैं दोबारा आ जाऊंगा।Upload to Facebook
    संता अपनी बीमारी की वजह से डॉक्टर के पास गया।
    डॉक्टर: आपकी बीमारी की सही वजह मेरी समझ में नहीं आ रही। हो सकता है दारु पीने की वजह से ऐसा हो रहा हो।
    संता: कोई बात नहीं डॉक्टर साहब, जब आपकी उतर जाएगी तो मैं दोबारा आ जाऊंगा।
  • डाक्टर: ताई तनै इसी दवाई दूंगा के तूं फेर तै जवान हो जागी।<br/>
ताई बोली: ईसा ज़ुल्म मन्ना करिये ढेड के बीज, मेरी पिनसन बन्द करावैगा के?Upload to Facebook
    डाक्टर: ताई तनै इसी दवाई दूंगा के तूं फेर तै जवान हो जागी।
    ताई बोली: ईसा ज़ुल्म मन्ना करिये ढेड के बीज, मेरी पिनसन बन्द करावैगा के?
  • किसी ने हमसे पूछा, "तुम्हारे दोस्त क्या काम करते है?"
    हमने भी बड़ी शान से जवाब दिया,
    "ROYAL STAG" "FOSTER" "TUBORG" "KINGFISHER" जैसी बड़ी कंपनी उनके दम पर ही चलती हैं।
  • क्या किसी के पास उधार स्वरूप् थोड़ी धुप सप्लाई करने की व्य्वस्था है?
    मई जून तक दुगने भाव से लौटा दूंगा।
  • कितनी अजीब दुनिया है जहाँ "औरतें दूसरी औरतों की शिकायतें करती करती नहीं थकती।"
    जबकि "पुरुष दूसरी औरतों की तारीफ करते करते नहीं थकते।"
  • बहुत ज्यादा थकी हुई महिलाओं के लिए योग आसन:<br/><br/>

1. आराम कुर्सी पर बैठिये<br/>
2. अपने सिर को पीछे की तरफ मोड़िये<br/>
3. आँखें बंद कर लीजिये और धीरे से बोलिए,<br/>
`भाड़ में गया काम!`Upload to Facebook
    बहुत ज्यादा थकी हुई महिलाओं के लिए योग आसन:

    1. आराम कुर्सी पर बैठिये
    2. अपने सिर को पीछे की तरफ मोड़िये
    3. आँखें बंद कर लीजिये और धीरे से बोलिए,
    "भाड़ में गया काम!"
  • बचपन से मुझे अच्छा बनने का शौंक था।
    साला...बचपन खत्म... शौंक भी खत्म!
  • जिए हुए लम्हों को ज़िन्दगी कहते हैं;<br/>
जो दिल को सुकून दे, उसे ख़ुशी कहते हैं;<br/>
जिसके होने की ख़ुशी से ज़िन्दगी मिले;<br/>
ऐसे रिश्ते को दोस्ती कहते हैं।Upload to Facebook
    जिए हुए लम्हों को ज़िन्दगी कहते हैं;
    जो दिल को सुकून दे, उसे ख़ुशी कहते हैं;
    जिसके होने की ख़ुशी से ज़िन्दगी मिले;
    ऐसे रिश्ते को दोस्ती कहते हैं।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT