• केवल वे जिन्होंने ईमानदार और निस्वार्थ योगदान की शक्ति को जान लिया है, जीवन की असली ख़ुशी अनुभव करते हैं : सच्ची परिपूर्णता।
    केवल वे जिन्होंने ईमानदार और निस्वार्थ योगदान की शक्ति को जान लिया है, जीवन की असली ख़ुशी अनुभव करते हैं : सच्ची परिपूर्णता।
    ~ Tony Robbins
  • जीवन में आपको जो भी अवसर चाहिए वो आपकी कल्पना में प्रतीक्षा करते हैं, कल्पना आपके मस्तिष्क की कार्यशाला है, जो आपके मन की उर्जा को सिद्धि और धन में बदल देती है|
    जीवन में आपको जो भी अवसर चाहिए वो आपकी कल्पना में प्रतीक्षा करते हैं, कल्पना आपके मस्तिष्क की कार्यशाला है, जो आपके मन की उर्जा को सिद्धि और धन में बदल देती है|
    ~ Napoleon Hill
  • जहाँ मैं सोचता था कि मैं जीना सीख रहा हूँ, वहीँ मैं मरना सीख रहा था।
    जहाँ मैं सोचता था कि मैं जीना सीख रहा हूँ, वहीँ मैं मरना सीख रहा था।
    ~ Leonardo da Vinci
  • हीलिंग का ये मतलब नहीं कि कभी पीड़ा थी ही नहीं। इसका मतलब है कि अब वो पीड़ा हमारे जीवन को नियंत्रित नहीं करती।
    हीलिंग का ये मतलब नहीं कि कभी पीड़ा थी ही नहीं। इसका मतलब है कि अब वो पीड़ा हमारे जीवन को नियंत्रित नहीं करती।
    ~ Brahma Kumari Shivani
  • आपकी ज़िन्दगी तभी बेहतर होती है जब आप बेहतर होते हैं।
    आपकी ज़िन्दगी तभी बेहतर होती है जब आप बेहतर होते हैं।
    ~ Brian Tracy
  • ये मायने नहीं रखता कि आप कहाँ से आये हैं। बस ये मायने रखता है कि आप कहाँ जा रहे हैं।
    ये मायने नहीं रखता कि आप कहाँ से आये हैं। बस ये मायने रखता है कि आप कहाँ जा रहे हैं।
    ~ Brian Tracy
  • फिजिशियन इलाज करता है, लेकिन प्रकृति ठीक करती है।
    फिजिशियन इलाज करता है, लेकिन प्रकृति ठीक करती है।
    ~ Hippocrates
  • ऐसा लगता है कि हर किसी को ये स्पष्ठ है कि और लोगों को अपना जीवन कैसे जीना चाहिए, पर उन्हें अपने बारे में कुछ नहीं पता है|
    ऐसा लगता है कि हर किसी को ये स्पष्ठ है कि और लोगों को अपना जीवन कैसे जीना चाहिए, पर उन्हें अपने बारे में कुछ नहीं पता है|
    ~ Paulo Coelho
  • जीवन लम्बा होने की बजाये महान होना चाहिए|
    जीवन लम्बा होने की बजाये महान होना चाहिए|
    ~ B. R. Ambedkar
  • स्वयं को इस जन्म औए अगले जन्म में भी काम में लगाइए| बिना प्रयत्न के आप समृद्ध नहीं बन सकते| भले भूमि उपजाऊ हो, बिना खेती किये उसमे प्रचुर मात्र में फसल नहीं उगाई जा सकती|
    स्वयं को इस जन्म औए अगले जन्म में भी काम में लगाइए| बिना प्रयत्न के आप समृद्ध नहीं बन सकते| भले भूमि उपजाऊ हो, बिना खेती किये उसमे प्रचुर मात्र में फसल नहीं उगाई जा सकती|
    ~ Plato