• हर भारतीय को इस बात का गर्व है कि भारत विविधताओं वाला देश है।
    हर भारतीय को इस बात का गर्व है कि भारत विविधताओं वाला देश है।
    ~ Narendra Modi
  • अगर उत्तरीय राज्यों के इतने सारे शहरों में किसी भी उद्योग का विकास नहीं हुआ है तो ये पूरी तरह से उन राज्यों की सरकारों की घोर अक्षमता और चूकों की वजह से है।
    अगर उत्तरीय राज्यों के इतने सारे शहरों में किसी भी उद्योग का विकास नहीं हुआ है तो ये पूरी तरह से उन राज्यों की सरकारों की घोर अक्षमता और चूकों की वजह से है।
    ~ Jayalalithaa
  • सभी लोग एक जैसे पैदा होते हैं... सिवाय रिपब्लिकन्स और डेमोक्रेट्स के।
    सभी लोग एक जैसे पैदा होते हैं... सिवाय रिपब्लिकन्स और डेमोक्रेट्स के।
    ~ Groucho Marx
  • मेरा मानना है कि मुझमें और बाकी कैंडिडेट्स में बस यही अंतर है कि मैं अधिक ईमानदार हूँ और मेरी औरतें ज्यादा खूबसूरत हैं।
    मेरा मानना है कि मुझमें और बाकी कैंडिडेट्स में बस यही अंतर है कि मैं अधिक ईमानदार हूँ और मेरी औरतें ज्यादा खूबसूरत हैं।
    ~ Donald Trump
  • मेरा ट्विटर इतना शक्तिशाली हो चुका है कि दरअसल मैं अपने दुश्मनों से सच उगलवा सकता हूँ।
    मेरा ट्विटर इतना शक्तिशाली हो चुका है कि दरअसल मैं अपने दुश्मनों से सच उगलवा सकता हूँ।
    ~ Donald Trump
  • पहली चीज, मेरे अन्दर महिलाओं के लिए बहुत सम्मान है। किसी भी और इंसान से ज्यादा कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में महिलाओं की ओर से ग्लास सीलिंग तोड़ने वाला मैं ही था।
    पहली चीज, मेरे अन्दर महिलाओं के लिए बहुत सम्मान है। किसी भी और इंसान से ज्यादा कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में महिलाओं की ओर से ग्लास सीलिंग तोड़ने वाला मैं ही था।
    ~ Donald Trump
  • अगर काले धन की बुराई को जड़ से ख़त्म करना है, तो इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए एक ज़रूरी कदम है कि ऐसा क़ानून पास हो जिसके तहत चुनाव में  होने वाला सारा खर्च निर्वाचन आयोग के माध्यम से सरकार द्वारा उठाया जाए।
    अगर काले धन की बुराई को जड़ से ख़त्म करना है, तो इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए एक ज़रूरी कदम है कि ऐसा क़ानून पास हो जिसके तहत चुनाव में होने वाला सारा खर्च निर्वाचन आयोग के माध्यम से सरकार द्वारा उठाया जाए।
    ~ Jayalalithaa
  • लोकतंत्र तब होगा जब गरीब ना कि धनाड्य शाशक हों!
    लोकतंत्र तब होगा जब गरीब ना कि धनाड्य शाशक हों!
    ~ Aristotle
  • क्या यह लोकतंत्र है? सभी एक साथ पैसा बनाने आये हैं! मैं खुद को सौभाग्यशाली समझूंगा अगर मैं अपने समाज, अपने देशवाशियों  के लिए मरता हूँ!
    क्या यह लोकतंत्र है? सभी एक साथ पैसा बनाने आये हैं! मैं खुद को सौभाग्यशाली समझूंगा अगर मैं अपने समाज, अपने देशवाशियों के लिए मरता हूँ!
    ~ Anna Hazare
  • इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है, जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे|
    इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्चित होता है, जैसाकि हम विधान सभा में बम फेंकने को लेकर थे|
    ~ Bhagat Singh