• समाज में कोई भी वस्तु न सुंदर होती है और न कुरूप। जिसे जो अच्छा लगे वही सुंदर है।
    ~ Author Unknown
  • लोग आपको समालोचना के लिए पूछ भले ही लें, लेकिन चाहते वे केवल प्रशंसा ही हैं।
    ~ W. Somerset Maugham
  • नागरिकता के दैनिक व्यवहार के बिना लोकतंत्र का दैनिक निर्वाह हो ही नहीं सकता।Upload to Facebook
    नागरिकता के दैनिक व्यवहार के बिना लोकतंत्र का दैनिक निर्वाह हो ही नहीं सकता।
    ~ Ralph Nader
  • भारत की एकता का मुख्य आधार है एक संस्कृति, जिसका उत्साह कभी नहीं टूटा। यही इसकी विशेषता है।Upload to Facebook
    भारत की एकता का मुख्य आधार है एक संस्कृति, जिसका उत्साह कभी नहीं टूटा। यही इसकी विशेषता है।
    ~ Madan Mohan Malviya
  • एक राष्ट्र की शक्ति उसकी आत्मनिर्भरता में है, दूसरों से उधार लेकर पर काम चलाने में नहीं।
    ~ Indira Gandhi
  • ऐसा वक़्त आ सकता है जब हम अन्याय को रोकने में असमर्थ हों, लेकिन ऐसा वक़्त कभी नहीं आना चाहिए जब हम विरोध करने में नाकाम रहें।
    ~ Elie Wiesel
  • अपराध को होने ही न देना उसके लिए सज़ा देने से बेहतर है।
    ~ Cesare Beccaria
  • मेरा विचार है कि अच्छी औरतों का प्रभाव सभ्यता को मापने के लिए पर्याप्त है।
    ~ Ralph Waldo Emerson
  • मनुष्य का मूल्यांकन इस आधार पर किया जाना चाहिए कि उसने कितने दोस्त या दुश्मन बनाए हैं।
    ~ Franklin D. Roosevelt
  • लोकतंत्र का मूल उदारता में है।
    ~ Aristotle
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT