• सुख सर्वत्र मौजूद है, उसका स्त्रोत हमारे ह्रदयों में है।
    सुख सर्वत्र मौजूद है, उसका स्त्रोत हमारे ह्रदयों में है।
    ~ John Ruskin
  • खुशी ही जीवन का अर्थ और उद्देश्य है, और मानव अस्तित्व का लक्ष्य और मनोरथ।
    खुशी ही जीवन का अर्थ और उद्देश्य है, और मानव अस्तित्व का लक्ष्य और मनोरथ।
    ~ Aristotle
  • हमारी खुशी का स्रोत हमारे ही भीतर है, यह स्रोत दूसरों के प्रति संवेदना से पनपता है।
    ~ Dalai Lama
  • आनंद वह खुशी है जिसके भोगनें पर पछतावा नहीं होता।
    ~ Socrates
  • प्रसन्नचित्त मनुष्य अधिक जीते हैं।
    ~ William Shakespeare
  • इंसान जितना अपने मन को मना सके उतना खुश रह सकता है।
    ~ Abraham Lincoln
  • प्रसन्नता आत्मा को शांति देती है।
    ~ Samuel Smiles
  • हंसी के क्षणों के बिना बीता दिन सबसे खराब दिन है।
    ~ E. E. Cummings