• दोस्ती की मिठास में हास्य और खुशियों का बांटना होना चाहिए। क्योंकि छोटी-छोटी चीजों की ओस में दिल अपनी सुबह खोज लेता है और तरोताज़ा हो जाता है।
    ~ Khalil Gibran
  • प्रसन्त्ता ऐसी घटनाओ की निरंतरता है जिनका हम विरोध नहीं करते।
    ~ Deepak Chopra
  • जैसे सूर्योदय के होते ही अंधकार दूर हो जाता है वैसे ही मन की प्रसन्नता से सारी बाधाएँ शांत हो जाती हैं।
    ~ Amritlal nagar
  • क्रोध मस्तिष्क के दीपक को बुझा देता है। अतः हमें सदैव शांत व स्थिरचित्त रहना चाहिए।
    ~ Robert G. Ingersoll
  • ईर्ष्या और क्रोध से जीवन क्षय होता है।
    ~ The Bible
  • सुख सर्वत्र मौजूद है, उसका स्त्रोत हमारे ह्रदयों में है।
    सुख सर्वत्र मौजूद है, उसका स्त्रोत हमारे ह्रदयों में है।
    ~ John Ruskin
  • खुशी ही जीवन का अर्थ और उद्देश्य है, और मानव अस्तित्व का लक्ष्य और मनोरथ।
    खुशी ही जीवन का अर्थ और उद्देश्य है, और मानव अस्तित्व का लक्ष्य और मनोरथ।
    ~ Aristotle
  • कृतज्ञता मित्रता को चिरस्थायी रखती है और नए मित्र बनाती है।
    ~ Benjamin Franklin
  • हमारी खुशी का स्रोत हमारे ही भीतर है, यह स्रोत दूसरों के प्रति संवेदना से पनपता है।
    ~ Dalai Lama
  • थोड़े दिन रहने वाली विपत्ति अच्छी है क्यों कि उसी से मित्र और शत्रु की पहचान होती है।
    ~ Rahim