• उथल -पुथल  और  अराजकता के बीच अपने भीतर शांति बनाये रखें।Upload to Facebook
    उथल -पुथल और अराजकता के बीच अपने भीतर शांति बनाये रखें।
    ~ Deepak Chopra
  • जो आप खुद नहीं पसंद करते उसे दूसरों पर मत थोपिए!Upload to Facebook
    जो आप खुद नहीं पसंद करते उसे दूसरों पर मत थोपिए!
    ~ Confucius
  • एक बुद्धिमान पुरुष की प्रशंसा उसकी अनुपस्थिति में करनी चाहिए, किन्तु स्त्री की प्रशंसा उसके मुख पर।Upload to Facebook
    एक बुद्धिमान पुरुष की प्रशंसा उसकी अनुपस्थिति में करनी चाहिए, किन्तु स्त्री की प्रशंसा उसके मुख पर।
  • अपनी प्रशंसा सुनकर हम इतने मतवाले हो जाते हैं कि फिर हम में विवेक की शक्ति भी लुप्त हो जाती है। बड़े-से -बड़ा महात्मा भी अपनी प्रशंसा सुनकर फूल उठता है।Upload to Facebook
    अपनी प्रशंसा सुनकर हम इतने मतवाले हो जाते हैं कि फिर हम में विवेक की शक्ति भी लुप्त हो जाती है। बड़े-से -बड़ा महात्मा भी अपनी प्रशंसा सुनकर फूल उठता है।
  • मुझे किसी दूसरी वस्तु की इतनी आवश्यकता नहीं है जितनी की आत्मपूजा की भूख के पोषण की।Upload to Facebook
    मुझे किसी दूसरी वस्तु की इतनी आवश्यकता नहीं है जितनी की आत्मपूजा की भूख के पोषण की।
    ~ Author Unknown
  • हर उस व्यक्ति के लिए समय की कोई कमी नहीं रहेगी जिसे समय का उपयोग करना आता है।Upload to Facebook
    हर उस व्यक्ति के लिए समय की कोई कमी नहीं रहेगी जिसे समय का उपयोग करना आता है।
    ~ Leonardo da Vinci
  • शिक्षा बुढ़ापे के लिए सबसे अच्छा प्रावधान है।Upload to Facebook
    शिक्षा बुढ़ापे के लिए सबसे अच्छा प्रावधान है।
    ~ Aristotle
  • शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है। एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है।  शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर देती है।Upload to Facebook
    शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है। एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है। शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर देती है।
    ~ Chanakya
  • सोचना ब्रेन केमिस्ट्री का अभ्यास है।Upload to Facebook
    सोचना ब्रेन केमिस्ट्री का अभ्यास है।
    ~ Deepak Chopra
  •  चरित्र को हम अपनी बात मनवाने का सबसे प्रभावी माध्यम कह सकते हैं।Upload to Facebook
    चरित्र को हम अपनी बात मनवाने का सबसे प्रभावी माध्यम कह सकते हैं।
    ~ Aristotle
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT