• हथेली में खुजली चले तो समझो खुजली का रोग हुआ है, पैसा नहीं आता।
    पैसा आने के लिये गांड फडवा मेहनत करनी पडती है। खुजाने से पैसा आता तो टट्टे सोने के हो जाते अब तक।
  • लड़का: Give me a kiss.
    लड़की: सपने में भी मत सोचना!
    लड़का: सपने में तो ठोक चुका हूँ!
  • वो कहने लगी,
    "नकाब में भी पहचान लेते हो हजारों मे हमें खडे-खडे!"
    .
    .
    .
    .
    मैंने मुस्करा के कहा, "आपके हैं ही इतने बङे-बड़े!"
  • मैंने उनसे कहा मुझे तुम्हारे दिल में जाना है, रास्ता बता दो!
    वो कमबख्त टाँगे फैला के लेट गयी!
  • तुम गुजार ही लोगे जिंदगी, हर फन में माहिर हो;
<br/>
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
पर मुझे तो कुछ भी नहीं आता, तुम्हे चोदने के अलावा!
    तुम गुजार ही लोगे जिंदगी, हर फन में माहिर हो;










    पर मुझे तो कुछ भी नहीं आता, तुम्हे चोदने के अलावा!
  • अब इसमें मेरी कहां गलती है बताओ..
<br/>
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
तरबूज़ वाली को बोला फांक थोड़ी चेोड़ी  करके दिखाओ... अंदर से लाल है क्या? देखनी है!<br/> 
फेंक के मारा बहन की लौड़ी ने!
    अब इसमें मेरी कहां गलती है बताओ..










    तरबूज़ वाली को बोला फांक थोड़ी चेोड़ी करके दिखाओ... अंदर से लाल है क्या? देखनी है!
    फेंक के मारा बहन की लौड़ी ने!
  • बॉलीवुडिया फिल्मी गानों की माने तो होली में सिर्फ चोली चुनरी भीगती है;
<br/>
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
<br/> 
हम पुरुषों का आंड और पायजामा वॉटर प्रूफ होता है।
    बॉलीवुडिया फिल्मी गानों की माने तो होली में सिर्फ चोली चुनरी भीगती है;










    हम पुरुषों का आंड और पायजामा वॉटर प्रूफ होता है।
  • दुनिया में सिर्फ दो चीज़ ही क़यामत का कारण है...
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
एक चूत और दूसरा उसका भूत बाकी सब नाम से बदनाम है!
    दुनिया में सिर्फ दो चीज़ ही क़यामत का कारण है... .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    एक चूत और दूसरा उसका भूत बाकी सब नाम से बदनाम है!
  • जैसे सुहागन महिला बिना सिंदूर के अधूरी रहती है...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
ठीक वैसे ही ट्रेनें बिना गुप्त रोग और वशीकरण के विज्ञापन के बगेर अधूरी हैं!
    जैसे सुहागन महिला बिना सिंदूर के अधूरी रहती है...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ठीक वैसे ही ट्रेनें बिना गुप्त रोग और वशीकरण के विज्ञापन के बगेर अधूरी हैं!
  • इस गर्मी में अपने झांटों पर नवरत्न तेल लगाइये और...<br/>
अपनी हवस को ठंडक पहुंचाइये!
    इस गर्मी में अपने झांटों पर नवरत्न तेल लगाइये और...
    अपनी हवस को ठंडक पहुंचाइये!