• लड़का केमिस्ट की दुकान पर गया।
    लड़का: एक कंडोम का पैकेट देना।
    केमिस्ट: तुम शर्मा जी के बेटे हो ना?
    लड़का: अंकल पहले स्ट्रेपसिल्स देना, दवाई का नाम भी नहीं निकल रहा ठीक से गले से।
  • ये जितने लोग अभी से हैप्पी न्यू इयर के मैसेज फॉरवर्ड करने लगे हैं,
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ये वो लोग है जो साले सुहागरात से 20 दिन पहले ही हल्दी वाला दूध पीना शुरु कर देते हैं।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    "लौडियों पे ध्यान देना और चूतियों को ज्ञान देना"
    दोनों ही सूरतो में घंटा हासिल होता है।
  • सुहागरात पे पति बीवी पर चड़ा तो बीवी हँसने लग गयी, पति नीचे उतर गया दोबारा चढ़ा तो फिर हँसने लग गयी।
    पति हैरान हो कर गुस्से से बोला, "तुझे क्या हुआ, हँस क्यों रही है?`
    बीवी (हँसते हुए): वो जब मेरे ऊपर चढ़ते हो न तो वो पंखे के बीच जो गोल चकरी है न उस में आपकी गांड दिख रही है।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    अगर आपके हिलाने में सच्चाई है... तो उसे हिचकी जरूर आएगी।
  • आज का कुविचार:
    दोस्तों की उतनी कद्र करो जितनी झाट साफ़ करते समय अपने टट्टों की करते हो!
  • बॉम्बे शेयर बाज़ार के पुरुष शौचालय में लिखा था;
    कुछ देर पकड़ कर रखो, यह ज़रूर बढेगा।
  • लडकी (दुकानदार से): यह Whisper कितने का है?
    दुकानदार: जी 200 का।
    लडकी: लगाओगे कितने में?
    दुकानदार: माफ करना लगाना आप को खुद ही पडेगा।
  • एक गुब्बारे वाले की दुकान के बाहर लिखा था:
    अगर अपने बच्चों को गुब्बारा नहीं दिला सकते तो वक्त पे गुब्बारा चढ़ा लिया करो।
  • सकारात्मक सोच (Positive Thinking) को कैसे बढाया जा सकता है:
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    आप एफ टीवी (FTV) चैनल देखें।
    आप हमेशा सोचेंगे कि "इसका नहीं तो अगली वाली का जरूर दिखेगा।"