• जब किस्मत ने `उंगली` करना बंद किया तो हम बहुत खुश हुए
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    हमें क्या पता था कि किस्मत `बांस` लेने गई है।
  • कोई और गुनाह करवा दे मुझ से मेरे खुदा, मोहब्बत करना अब मेरे बस की बात नहीं।
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    भावार्थ:-
    प्रस्तुत पद में कवि सिर्फ पेलना चाहते हैं।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    गूगल खोल के कुछ नहीं मिलेगा, जो मिलेगा वो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    सलवार खोल के ही मिलेगा।
  • कोशिश आखरी सांस तक करनी चाहिये यारो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    मिल गयी तो चूत और नहीं मिली तो उसकी माँ की चूत।
  • अर्थ का अनर्थ:
    एक लिफ्ट पर दो नोट लिखे थे।
    1. महिलाओ का खास ख्याल रखें
    2. एक बार में 6 से ज्यादा आदमी न चढें
  • घर वाले चूँकि 'चूतिया' शब्द का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं इसलिए अक्सर कह देते हैं:
    "भोला रह गया ये लड़का"।
  • चुदाई का नाम सुनते ही बचपन में कान खड़े हो जाते हैं, जवानी में लंड खड़ा हो जाता है और बुढ़ापे मे रोंगटे
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    मर्द आखिर मर्द है, कुछ ना कुछ खड़ा कर ही लेता है।
  • अभी रिलीज हुआ है:
    चंदू के चाचा ने चंदू की चाची को चांदनी रात में चद्दर के नीचे चार बार चोदा।
  • लडकी कितनी भी गोरी क्यो न हो उसकी एक चीज हमेशा काली रहती है...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    परछाई भोंसड़ी वालों, परछाई!
  • आज का घंटा ज्ञान:
    अगर हाथों में ही किस्मत लिखी होती तो लोग अपने हाथों से गांड नहीं धोते।