• BRA और BAR ये दो शब्दों में अक्षर तो वही हैं पर इन में एक बात खास यह है कि...<br/>
पुरुष इन दोनों के खुलने का, बडी बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं।
    BRA और BAR ये दो शब्दों में अक्षर तो वही हैं पर इन में एक बात खास यह है कि...
    पुरुष इन दोनों के खुलने का, बडी बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    गर्लफ्रेंड की पैंटी उतारने से पहले कंडोम को पैकेट से बाहर निकाल लें, क्योंकि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    जब लन्ड खड़ा होता है तब जल्दी से साला पैकेट भी नहीं खुलता।
  • लड़का: काम कैसा चल रहा है आजकल?
    लड़की: काम कम है, बैठे-बैठे कुर्सी तोड़ रही हूँ यार।
    लड़का: आ जाओ, पलंग तोड़ते हैं।
  • सारी शिकायत एक पल में दूर हो जाती है, जब वो कहती है...
    मुझको आदत है नखरे दिखाने की, आप तो बस चढ़ जाया करो।
  • ये पढ़ाई-लिखाई, नौकरी-चाकरी, घर-बार, पता नही किस भोसडी वाले का आईडिया था।
    आराम से गुफ़ाओं में रहते, कन्द मुल खाते, चूत मारते, बच्चे पैदा करते और सुकून से मर जाते।
  • अगर मेडिकल स्टोर पर कोई ग्राहक डरा हुआ है और अपने से बाद में आये कस्टमर को समान लेने दे रहा है तो
    समझ लो वो "कंडोम" खरीदने आया है।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    हर हिलती हुई झाड़ी मे भूत नही होता।
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    हो सकता है कोई उसमे अपनी मोहब्बत को 'अन्जाम' दे रहा हो।
  • जब किस्मत ने `उंगली` करना बंद किया तो हम बहुत खुश हुए
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    हमें क्या पता था कि किस्मत `बांस` लेने गई है।
  • कोई और गुनाह करवा दे मुझ से मेरे खुदा, मोहब्बत करना अब मेरे बस की बात नहीं।
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    भावार्थ:-
    प्रस्तुत पद में कवि सिर्फ पेलना चाहते हैं।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    गूगल खोल के कुछ नहीं मिलेगा, जो मिलेगा वो...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    सलवार खोल के ही मिलेगा।