• पप्पू: तुम्हें मैं ज्यादा पसंद हूँ या टॉयलेट?<br/>
गर्लफ्रेंड: कैसा बेहूदा सवाल है यह?<br/>
पप्पू: नहीं जानू, बताओ न।<br/>
गर्लफ्रेंड: तुम, अब बताओ क्यों पूछा?<br/>
पप्पू: तो जब तुम टॉयलेट के लिए फ़ौरन चड्डी उतार सकती हो तो मेरे लिए क्यों नहीं? Upload to Facebook
    पप्पू: तुम्हें मैं ज्यादा पसंद हूँ या टॉयलेट?
    गर्लफ्रेंड: कैसा बेहूदा सवाल है यह?
    पप्पू: नहीं जानू, बताओ न।
    गर्लफ्रेंड: तुम, अब बताओ क्यों पूछा?
    पप्पू: तो जब तुम टॉयलेट के लिए फ़ौरन चड्डी उतार सकती हो तो मेरे लिए क्यों नहीं?
  • पप्पू: तुम्हें इतने तंग कपड़ों में गरमी नहीं लगती?<br/>
गुड्डी: लगती है, जब तुम जैसे लोग पास बैठे ठंडी - ठंडी आहें भरने लगते हैँ।Upload to Facebook
    पप्पू: तुम्हें इतने तंग कपड़ों में गरमी नहीं लगती?
    गुड्डी: लगती है, जब तुम जैसे लोग पास बैठे ठंडी - ठंडी आहें भरने लगते हैँ।
  • एक लड़की अपने मोहल्ले में किसी को भी लाइन नहीं देती थी।
    एक दिन पप्पू ने उसे रोका और कहा, "अगर तुम मुझे अपने बूब्स चूसने दो तो मैं तुम्हें 1 लाख रुपये दूंगा।"
    लड़की इसके लिए तैयार हो गयी।
    पप्पू काफी देर तक उसके बूब्स पर हाथ फेरता रहा।
    लड़की: अब चूस भी लो।
    पप्पू: नहीं यार, बहुत महंगा है।
  • संता: बेटा जब हम जवान थे तो 10 रुपये में जी भर के दूध पिया करते थे।
    पप्पू: पापा, मजे थे आपके, आजकल तो 100 रुपये मे कोई दबाने भी नही देती।
  • टीचर: इसका Passive Voice बनाओ, `सुनसान जगहों पर बच्चों के साथ हादसे हो जाते हैं।`<br/>
पप्पू: सुनसान जगहों पर होने वाले हादसों से बच्चे हो जाते हैं।Upload to Facebook
    टीचर: इसका Passive Voice बनाओ, "सुनसान जगहों पर बच्चों के साथ हादसे हो जाते हैं।"
    पप्पू: सुनसान जगहों पर होने वाले हादसों से बच्चे हो जाते हैं।
  • टीचर: टेबल पर स्याही किस ने गिराई है, इस लाइन को अपनी रोज़ मर्रा की भाषा में कैसे कहोगे?<br/>

पप्पू: यह किस बहन चोद ने अपनी गांड मरवाई है यहाँ?Upload to Facebook
    टीचर: टेबल पर स्याही किस ने गिराई है, इस लाइन को अपनी रोज़ मर्रा की भाषा में कैसे कहोगे?
    पप्पू: यह किस बहन चोद ने अपनी गांड मरवाई है यहाँ?
  • पप्पू प्रवचन सुनने गया और बाबा से सवाल पूछा।
    पप्पू: बाबा क्या शादी से पहले किसी लड़की के साथ सोना गलत बात है?
    बाबा: बिलकुल नहीं, लेकिन कमीनों उस रात तुम सोते कहाँ हो।
  • पप्पू अपने पडोसी से: अंकल, आंटी क्या रात को कबूतरों को दाना डालती है?<br/>

पडोसी: नहीं तो हमने तो कबूतर रखे ही नहीं।<br/>
पप्पू: तो फिर रात को आपके घर से आवाज़ें क्यों आती हैं?<br/>
पडोसी: कैसी आवाज़ें?<br/>
पप्पू: आह, आह, आह...Upload to Facebook
    पप्पू अपने पडोसी से: अंकल, आंटी क्या रात को कबूतरों को दाना डालती है?
    पडोसी: नहीं तो हमने तो कबूतर रखे ही नहीं।
    पप्पू: तो फिर रात को आपके घर से आवाज़ें क्यों आती हैं?
    पडोसी: कैसी आवाज़ें?
    पप्पू: आह, आह, आह...
  • पप्पू पेड़ से गिरा और उसकी गांड फट गयी।
    हॉस्पिटल में नर्स टांके लगाने आई और पूछा, "कितनी खुली रखूं?"
    पप्पू दर्द से तड़पते हुए, "जितनी आपकी है।"
    .
    .
    .
    .
    नर्स 3 इंच और फाड़ के चली गई।
    सार: गांड फटी हो तो भी सोच समझ कर बोलना चाहिए।
  • पप्पू: मैं कभी भी किसी 'गे' के साथ नहीं लड़ सकता।
    बंटी: क्यों?
    पप्पू: क्योंकि मुझे पता ही नहीं मैं उसे कौन सो गाली दूँ, मैं तेरी गांड फाड़ दूंगा, गांड मरा, चोद डालूँगा।
    इसलिए मैं उनसे कभी नहीं लड़ता।