• दुनिया में सिर्फ दो चीज़ ही क़यामत का कारण है... .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    एक चूत और दूसरा उसका भूत बाकी सब नाम से बदनाम है!
  • जैसे सुहागन महिला बिना सिंदूर के अधूरी रहती है...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ठीक वैसे ही ट्रेनें बिना गुप्त रोग और वशीकरण के विज्ञापन के बगेर अधूरी हैं!
  • इस गर्मी में अपने झांटों पर नवरत्न तेल लगाइये और...
    अपनी हवस को ठंडक पहुंचाइये!
  • बच्चा: घोड़ा बनो!
    बाप: ठीक है!
    बच्चा: पर कामवाली बाई की तरह नहीं, कल आप धक्के मार-मार कर थक गये पर वो चली नहीं!
  • मेडिकल स्टोर पर एक आदमी कंडोम लेने गया।
    ₹2000/- एक नोट देकर 10/- वाला पैकेट माँगा।
    दुकानदार (पैकेट देते हुए): भाई साहब ये फ्री में ले जाओ... आज भाभी जी को मेरी तरफ से चोद लेना।
  • जिंदगी से आज तक एक ही चीज सीखी है कि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ज्यादा मुठ मारने से कुछ प्राप्त नहीं होता बस लंड छिल जाता है!
  • हम वो आशिक हैं जो सुबह को शाम बना देते हैं,
    छोटी छोटी मौसमबियों को आम बना देते हैं,
    हम से पंगा न ले छोरी,
    हम तो वो हैं जो छोटी सी दुकान का भी गोदाम बना देते हैं!
  • लकीर मिट गई हाथों की,
    और वो कहती है हम उसे याद नहीं करते!
  • टीचर: रोशनी हमें दीपक से मिलती है, इस वाक्य में दीपक क्या है?
    पप्पू: दीपक दल्ला है!
  • एक नया गाना आया है मेरी चढ़ती जवानी मांगे पानी रे पानी!
    अब ये नहीं समझ आ रहा 'नल का या लंड का'!