• लोग कहते हैं किआजकल के गाने वलगर हैं।<br/>
पहले के क्या थे... लागा चुनरी में दाग़ छुपाऊँ कैसे?<br/>
अब कोई पूछे चुनरी नीचे बिछा के ज़रूर मरवानी थी।
    लोग कहते हैं किआजकल के गाने वलगर हैं।
    पहले के क्या थे... लागा चुनरी में दाग़ छुपाऊँ कैसे?
    अब कोई पूछे चुनरी नीचे बिछा के ज़रूर मरवानी थी।
  • आज रात्रि का ज्ञान:<br/>
रंडी पेलते हुऐ पकड़े जाओ तो इतनी बेइज्जती महसूस नहीं होती,<br/>
जितनी मुट्ठ मारते समय पकड़े जाने पर होती है।
    आज रात्रि का ज्ञान:
    रंडी पेलते हुऐ पकड़े जाओ तो इतनी बेइज्जती महसूस नहीं होती,
    जितनी मुट्ठ मारते समय पकड़े जाने पर होती है।
  • ज्ञान और ध्यान की वाट तभी लग जाती है...<br/>
जब कोई लड़की झुककर झाड़ू लगाती है!
    ज्ञान और ध्यान की वाट तभी लग जाती है...
    जब कोई लड़की झुककर झाड़ू लगाती है!
  • बंटी: मेरे पापा इतने लम्बे हैं कि चलता पंखा रोक देते हैं।<br/>
पप्पू: मेरे पापा भी लम्बे हैं पर वो ऐसे गांड पंगे नहीं लेते।
    बंटी: मेरे पापा इतने लम्बे हैं कि चलता पंखा रोक देते हैं।
    पप्पू: मेरे पापा भी लम्बे हैं पर वो ऐसे गांड पंगे नहीं लेते।
  • आज का कुविचार:<br/>
ज़िंदगी  में कुछ पकड़ना है तो बुलंदियों को पकड़ो;<br/>
बात-बात पर लंड पकड़ने से कुछ नहीं मिलेगा।
    आज का कुविचार:
    ज़िंदगी में कुछ पकड़ना है तो बुलंदियों को पकड़ो;
    बात-बात पर लंड पकड़ने से कुछ नहीं मिलेगा।
  • लड़का: मैं तुमसे प्यार करता हूँ।<br/>
लड़की: पहले, गिरेहबान में झाँक कर देख।<br/>
लड़का: अरे वाह! इतने बड़े बड़े!<br/>
लड़की: भोसडी के अपनी में झाँक!
    लड़का: मैं तुमसे प्यार करता हूँ।
    लड़की: पहले, गिरेहबान में झाँक कर देख।
    लड़का: अरे वाह! इतने बड़े बड़े!
    लड़की: भोसडी के अपनी में झाँक!
  • जीतो: आपको तो तेज बुखार है, गर्मी से थर्मामीटर फूल गया है।<br/>
संता: ओये रांड, तुमने थर्मामीटर नहीं मेरा लंड पकड़ा हुआ है।
    जीतो: आपको तो तेज बुखार है, गर्मी से थर्मामीटर फूल गया है।
    संता: ओये रांड, तुमने थर्मामीटर नहीं मेरा लंड पकड़ा हुआ है।
  • पप्पू: मैडम आप दूध पीती हो?<br/>
टीचर: हाँ रोज पीती हूँ, क्यों?<br/>
पप्पू: आपका मुँह पहुँच जाता है वहाँ तक?
    पप्पू: मैडम आप दूध पीती हो?
    टीचर: हाँ रोज पीती हूँ, क्यों?
    पप्पू: आपका मुँह पहुँच जाता है वहाँ तक?
  • चाहता तो हूँ कि ये दुनिया बदल दूँ पर...<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
.<br/>
चूत के जुगाड़ में लगे रहने से फुर्सत नहीं मिलती!
    चाहता तो हूँ कि ये दुनिया बदल दूँ पर...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    चूत के जुगाड़ में लगे रहने से फुर्सत नहीं मिलती!
  • ना जाने कैसी नजर लगी है जमाने की,<br/>
जगह ही नहीं मिल रही है बजाने की।
    ना जाने कैसी नजर लगी है जमाने की,
    जगह ही नहीं मिल रही है बजाने की।