• कक्षा में अध्यापिका: वो लड़कियों को पसंद नहीं करता। इस वाक्य में 'वो' क्या है?<br/>
पप्पू: वो साला 'गे' है।
    कक्षा में अध्यापिका: वो लड़कियों को पसंद नहीं करता। इस वाक्य में 'वो' क्या है?
    पप्पू: वो साला 'गे' है।
  • पप्पू अपनी गर्लफ्रेंड के हाथ को अपने हाथ में पकड़ कर बोला, `तुम्हारी उंगलियों को देख कर मन में एक विचार आता है।`<br/>
गर्लफ्रेंड: जानू, कैसा विचार आता है?<br/>
पप्पू: यह तुम्हारे लंबे नाख़ून गांड धोते वक़्त गांड में लगते नहीं क्या?
    पप्पू अपनी गर्लफ्रेंड के हाथ को अपने हाथ में पकड़ कर बोला, "तुम्हारी उंगलियों को देख कर मन में एक विचार आता है।"
    गर्लफ्रेंड: जानू, कैसा विचार आता है?
    पप्पू: यह तुम्हारे लंबे नाख़ून गांड धोते वक़्त गांड में लगते नहीं क्या?
  • पप्पू भागता-भागता अपने पडोसी के घर गया और पूछा, `आंटी स्टोव का पिन है क्या?`<br/>
आंटी: स्टोव पे खाना पका रहे हो क्या?<br/>
पप्पू: नहीं, वो सुबह से मुठ मार रहा हूँ, पर कुछ निकल ही नहीं रहा। लगता है अंदर कुछ फंसा हुआ है।
    पप्पू भागता-भागता अपने पडोसी के घर गया और पूछा, "आंटी स्टोव का पिन है क्या?"
    आंटी: स्टोव पे खाना पका रहे हो क्या?
    पप्पू: नहीं, वो सुबह से मुठ मार रहा हूँ, पर कुछ निकल ही नहीं रहा। लगता है अंदर कुछ फंसा हुआ है।
  • पठान एक लड़की के साथ सेक्स कर रहा था।<br/>
लड़की बोली: और अंदर, थोड़ा ऊपर, थोड़ा राईट, थोड़ा लेफ्ट।<br/>
पठान: ओय, तू सेक्स कर रही है या गाड़ी पार्क करा रही है।
    पठान एक लड़की के साथ सेक्स कर रहा था।
    लड़की बोली: और अंदर, थोड़ा ऊपर, थोड़ा राईट, थोड़ा लेफ्ट।
    पठान: ओय, तू सेक्स कर रही है या गाड़ी पार्क करा रही है।
  • एक लड़की सड़क पर जा रही थी। उसकी टी-शर्ट पर हवाई जहाज़ बना हुआ था। एक लड़का उसके साथ-साथ चलते हुए उसकी टी-शर्ट को घूरे जा रहा था।
    लड़की (गुस्से से): क्या कभी हवाई जहाज़ नहीं देखा?
    लड़का: हवाई जहाज़ तो बहुत देखें हैं पर ऐसा हवाई अड्डा नहीं देखा।
  • वक़्त कहता है मुझे गवा मत;
    दिल कहता है मुझे लगा मत;
    प्यार कहता है मुझे आज़मा मत;
    और आज-कल की गर्लफ्रेंड कहती है, "डाल चूतिये, घबरा मत!"
  • दिल तोड़ने की सज़ा नहीं मिलती;
    दिल टूटने की वजह नहीं मिलती;
    लड़कियां तो बहुत फंस जाती हैं मेरे दोस्त;
    बस उन्हें ठोकने की जगह नहीं मिलती!
  • जीतो और प्रीतो बाजार में सब्ज़ी खरीद रही थी।
    जीतो: यह आलू मुझे संता की गोटियों जैसे लगते हैं।
    प्रीतो: क्या वो इतनी बड़ी हैं?
    जीतो: नहीं इतनी गंदी।
  • मैंने पानी माँगा तो सागर मिला;
    फूल माँगा तो बगीचा मिला;
    घर माँगा तो आलिशान महल मिला;
    लेकिन जब गांड माँगी तो तुम्हारा नंबर मिला!
    तो बता कब आऊं तेरी लेने?
  • लड़कों को लड़कियों के खूब बड़े-बड़े पसंद हैं। खासकर जब वो चलती हैं तो उनके हिलते हैं तो बहुत ही प्यारे लगते हैं।
    क्या?
    सोचो...
    नहीं पता उनके प्यारे-प्यारे, बड़े-बड़े;
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    'बूब्स।'
    तुम बाल समझ रहे थे ना, इतने शरीफ कब से हो गए हो।