• BRA और BAR ये दो शब्दों में अक्षर तो वही हैं पर इन में एक बात खास यह है कि...<br/>
पुरुष इन दोनों के खुलने का, बडी बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं।Upload to Facebook
    BRA और BAR ये दो शब्दों में अक्षर तो वही हैं पर इन में एक बात खास यह है कि...
    पुरुष इन दोनों के खुलने का, बडी बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं।
  • टीचर: पप्पू सच बता वर्ना चड्डी उतार के मुर्गा बना दूंगी।
    पप्पू: मैडम सारी गलती मेरी है, आप चड्डी उतार के मुर्गा बनाओ में क्वाटर लेके आता हूँ।
  • आज का घंटा ज्ञान:
    गर्लफ्रेंड की पैंटी उतारने से पहले कंडोम को पैकेट से बाहर निकाल लें, क्योंकि...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    जब लन्ड खड़ा होता है तब जल्दी से साला पैकेट भी नहीं खुलता।
  • लड़का: काम कैसा चल रहा है आजकल?
    लड़की: काम कम है, बैठे-बैठे कुर्सी तोड़ रही हूँ यार।
    लड़का: आ जाओ, पलंग तोड़ते हैं।
  • सारी शिकायत एक पल में दूर हो जाती है, जब वो कहती है...
    मुझको आदत है नखरे दिखाने की, आप तो बस चढ़ जाया करो।
  • लड़की: मुझे बड़ी ठंड लग रही है, मेरे दोनों हीटर को छु लो!
    लड़का: अभी भी ठंड लग रही है क्या?
    लड़की: अबे घोन्चु, नीचे प्लग तो लगा।
  • ये पढ़ाई-लिखाई, नौकरी-चाकरी, घर-बार, पता नही किस भोसडी वाले का आईडिया था।
    आराम से गुफ़ाओं में रहते, कन्द मुल खाते, चूत मारते, बच्चे पैदा करते और सुकून से मर जाते।
  • टीचर: पप्पू, सच-सच बता वर्ना चड्डी उतार के बेंत से मारूंगी।
    पप्पू: मैडम, सारी गलती तो मेरी है। आप क्यों चड्डी उतारती हैं?
  • हवलदार: सर इसकी जेब से खतरनाक हथियार मिला है, शायद किसी को ठोकने जा रहा है।
    इंस्पेक्टर: क्या मिला है?
    हवलदार: सर कंडोम।
  • जमाना अब कितना भी आगे चला जाये लेकिन...
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ये चाटने और चूसने वाली कला कभी विलुप्त नही होगी।