• एक दिन मिला वो मुझसे -
    बुझा-बुझा सा;
    झुका-झुका सा;
    थका-थका सा;
    उदासियों में रचा बसा सा।
    .
    . .
    . . .
    मुझे अंदाजा हो गया कि गांडू मुट्ठ मार के आया है।
  • डॉक्टर: आपके घुटने में मोच कैसे आई?
    जीतो: वो डोगी (कुत्ते) स्टाइल में कर रहा था;
    डॉक्टर: तुम्हें कोई और स्टाइल नहीं आता;
    जीतो: मैं तो जानती हूँ, पर मेरे डोगी (कुत्ते) को नहीं पता।
  • अध्यापक: जिस आदमी को सुनाई न दे उसे इंलिश में क्या कहोगे?
    पप्पू: जो मर्ज़ी कहो, "जब बहन के लौड़े को सुनाई ही नही देगा तो क्या कहना।"
  • नर्गिस डॉक्टर से, इतनी गर्मी में, शूटिंग, पार्टी जैसे में नहाते वक़्त साबुन लगाऊं या शम्पू?
    डॉक्टर: कुछ लगायें या ना लगायें, लेकिन नहाते वक़्त बाथरूम का कुंडा ज़रूर लगायें।
  • पिंकी: मैं माँ बनने वाली हूँ।
    जीतो: कहाँ जाकर चुदवा आई है? किसका लंड मुंह में लेकर आई है? किसकी लस्सी चूत में भरवा के आई है? पढ़ने की उम्र में कहाँ गांड मरवा के आई है? बोल वर्ना चूत में सीमेंट डाल के पैक कर दूंगी?
    .
    . .
    . . .
    पिंकी रोते हुए बोली, "स्कूल के नाटक में माँ बनने वाली हूँ"।"
  • एक बस में सभी सीटों पे मर्द बैठे हुए थे। एक लड़की बस में खड़ी थी और किसी ने उसको सीट नहीं दी।
    काफी देर बाद वो विफल (Frustrate) होकर बोली, "कैसा जमाना आ गया है, चूत खड़ी है और सभी लंड बैठे हैं"।
  • एक बार संता के घर में चोर घुस आया। संता ने उसे पकड़ लिया और अपने बेटे से कहा, "इसकी गांड मार"।
    पप्पू ने काफी प्रयास किया और कहा अंदर नहीं जा रहे हैं।
    संता: चल छूरी ले और इसकी गांड फाड़, फिर डाल।
    चोर घबराकर बोला: साहब, एक बार थूक लगाकर तो प्रयास कर लो।
  • सच्चे दोस्त की 3 निशानियां: एक तो भोसड़ी का कभी फोन नहीं करेगा।

    दूसरा: काम के लिए हाँ बोलेगा, लेकिन चूतिया एक दिन का काम दस दिन में भी नहीं करेगा।
    और तीसरा जो सबसे जरूरी है, लड़कियों को प्यार वाले SMS भेजेगा, और हमको लौड़ा-लासुन, स्तन, गांड, चूत, झांट वाले SMS भेजेगा।
  • संता टी.वी पर FTV चैनल देख रहा था कि अचानक पप्पू ने देख लिया।
    संता बहाने बनाते हुए बोला, "गरीब लड़कियां हैं, कपड़े लेने के लिए भी पैसे नहीं हैं"।
    पप्पू बोला, "इससे भी गरीब चाहिए तो डीवीडी (DVD) है मेरे पास।
  • पटियाला की दो बातें बड़ी मशहूर हैं।
    पहला पटियाला पेग
    और
    दूसरा पटियाला सलवार।
    एक चढ़ने के बाद मजा देती है और दूसरी उतरने के बाद।