• मत ढूंढ़ा कर मेरी आँखों में इश्क का हिसाब;<br/>
तुम्हें चाहने का मैंने कभी हिसाब नहीं किया!
    मत ढूंढ़ा कर मेरी आँखों में इश्क का हिसाब;
    तुम्हें चाहने का मैंने कभी हिसाब नहीं किया!
  • हुजूर लाजमी है महफिलों मे बवाल होना;<br/>
एक तो हुस्न कयामत उस पे होठो का लाल होना!
    हुजूर लाजमी है महफिलों मे बवाल होना;
    एक तो हुस्न कयामत उस पे होठो का लाल होना!
  • हालात -ए-ज़िन्दगी सिखा देती है समझदारी;<br/>
वरना बचपन किसे पसंद नहीं है!
    हालात -ए-ज़िन्दगी सिखा देती है समझदारी;
    वरना बचपन किसे पसंद नहीं है!
  • ये शीशे, ये सपने, ये रिश्ते और ये ज़िन्दगी;<br/>
किसे क्या खबर है, कहाँ टूट जायेंगे!
    ये शीशे, ये सपने, ये रिश्ते और ये ज़िन्दगी;
    किसे क्या खबर है, कहाँ टूट जायेंगे!
  • मेरे ठोकरें खाने से भी कुछ लोगों को जलन है;<br/>
कहतें हैं यूँ तो ये शख्स, तजुर्बे में आगे निकल जाएगा!
    मेरे ठोकरें खाने से भी कुछ लोगों को जलन है;
    कहतें हैं यूँ तो ये शख्स, तजुर्बे में आगे निकल जाएगा!
  • कोई अच्छा वकील हो नजर में तो बताना मुझे;<br/>
अपने दिल का कब्ज़ा वापिस लेना है किसी से!
    कोई अच्छा वकील हो नजर में तो बताना मुझे;
    अपने दिल का कब्ज़ा वापिस लेना है किसी से!
  • क़त्ल न करो, बस मोहब्बत करके छोड़ दो;<br/>
किसी दिलजले से पूछ लो, ये भी सज़ा-ए-मौत है!
    क़त्ल न करो, बस मोहब्बत करके छोड़ दो;
    किसी दिलजले से पूछ लो, ये भी सज़ा-ए-मौत है!
  • दर्द कितना खुशनसीब है मिलते ही अपनों की याद दिलाता है;<br/>
दौलत कितनी बदनसीब है मिलते ही लोग अपनों को  भूल जाते हैं!
    दर्द कितना खुशनसीब है मिलते ही अपनों की याद दिलाता है;
    दौलत कितनी बदनसीब है मिलते ही लोग अपनों को भूल जाते हैं!
  • बदल दिये अब हमने उदास होने के तरीके;<br/>
अब कोई दिल भी दुखाये तो बस, हल्का सा मुस्कुरा देते हैं!
    बदल दिये अब हमने उदास होने के तरीके;
    अब कोई दिल भी दुखाये तो बस, हल्का सा मुस्कुरा देते हैं!
  • काश तुम आकर संभाल लो मुझे;<br/>
थोड़ा सा रह गया हूं मैं इस साल की तरह!
    काश तुम आकर संभाल लो मुझे;
    थोड़ा सा रह गया हूं मैं इस साल की तरह!