Hindi Shayari

Page: 1
हुनर अब आ गया मुझको​ ​वफाओं को परखने का;<br/>​
दिखावे की हर एक चाहत मैं वापिस मोड़ देता हूँ​। ​
हुनर अब आ गया मुझको​ ​वफाओं को परखने का;
​ दिखावे की हर एक चाहत मैं वापिस मोड़ देता हूँ​। ​
इतना, आसान हूँ कि हर किसी को समझ आ जाता हूँ​;​<br/>
शायद तुमने ही पन्ने छोड़ छोड़ कर पढ़ा है मुझे​।
इतना, आसान हूँ कि हर किसी को समझ आ जाता हूँ​;​
शायद तुमने ही पन्ने छोड़ छोड़ कर पढ़ा है मुझे​।
ऊँची इमारतों से मकां मेरा घिर गया​;
​कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए।
~ Javed Akhtar
ख़ुदा ने ये सिफ़त दुनिया की हर औरत को बख्शी है;​
​ के वो पागल भी हो जाए तो बेटे याद रहते है​​।
अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ ​....​

​ ​अर्ज़-ए-नियाज़-ए-इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा​;​
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा​;​ ​​

​ मरने की, अय दिल, और ही तदबीर कर, कि मैं;​
शायान-ए-दस्त-ओ-बाज़ु-ए-का़तिल नहीं रहा​;​

​ वा कर दिए हैं शौक़ ने, बन्द-ए-नकाब-ए-हुस्न​;​
ग़ैर अज़ निगाह, अब कोई हाइल नहीं रहा​;​

​ बेदाद-ए-इश्क़ से नहीं डरता मगर असद ​;​
​ जिस दिल पे नाज़ था मुझे, वो दिल नहीं रहा।
~ Mirza Ghalib
रिश्वत भी नहीं लेता कम्बखत जान छोड़ने की;
यह तेरा इश्क़ भी मुझे केजरीवाल लगता है!
​यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं है मेरा​ शराब से​;<br/>​                  इश्क की राहों में  तन्हा मिली​ हमसफ़र बन गई....
​यूँ तो ऐसा कोई ख़ास याराना नहीं है मेरा​ शराब से​;
​ इश्क की राहों में तन्हा मिली​ हमसफ़र बन गई....
तेरे हाथों में मुझे अपनी तक़दीर नज़र आती है;<br/>
देखूं मैं जो भी चेहरा तेरी तस्वीर नजर आती है।
तेरे हाथों में मुझे अपनी तक़दीर नज़र आती है;
देखूं मैं जो भी चेहरा तेरी तस्वीर नजर आती है।
हुए जिस पे मेहरबां तुम, कोई खुशनसीब होगा;
मेरी हसरतें तो निकली, मेरे आंसुओं में ढल के।
~ Ahsaan Danish
​किसी की गलतियों को बेनक़ाब ना कर​;
​ 'ईश्वर' बैठा है, तू हिसाब ना कर​।

Quotes

​​जितना कठिन आप काम करते जाते है, उतना ही वह आपके सामने आत्मसमर्पण करता जाता है।

Trivia

Leonardo da Vinci invented scissors.

Graffiti

I'm reading a book about anti-gravity. I just can't put it down.