• पल भर की बातें फिर, महिनों की दूरी;
    आदत तुम्हारी भी तनख्वाह,सी हो गई!
  • दूर रहकर भी जो समाया है मेरी रूह में;<br/>
पास वालों पर वो शख्स कितना असर रखता होगा!Upload to Facebook
    दूर रहकर भी जो समाया है मेरी रूह में;
    पास वालों पर वो शख्स कितना असर रखता होगा!
  • किसी के जख़्म का मरहम, किसी के ग़म का इलाज़;<br/>
लोगों ने बाँट रखा है, मुझे दवा की तरह!Upload to Facebook
    किसी के जख़्म का मरहम, किसी के ग़म का इलाज़;
    लोगों ने बाँट रखा है, मुझे दवा की तरह!
  • चुपचाप गुज़ार देगें तेरे बिना भी ये ज़िन्दगी;
    लोगो को सिखा देगें मोहब्बत ऐसे भी होती है।
  • यूँ लुटाते न फिरो मोतियों वाले मौसम;<br/>
ये नगीने तो हैं रातों को सजाने के लिए!Upload to Facebook
    यूँ लुटाते न फिरो मोतियों वाले मौसम;
    ये नगीने तो हैं रातों को सजाने के लिए!
  • ताबीज़ जैसा था वो शख्स;<br/>
गले लगते ही सुकूँ मिलता था!Upload to Facebook
    ताबीज़ जैसा था वो शख्स;
    गले लगते ही सुकूँ मिलता था!
  • देखिये पाते हैं उश्शाक़, बुतों से क्या फ़ैज़;
    एक ब्राह्मण ने कहा है, कि यह साल अच्छा है!
    ~ Mirza Ghalib
  • आजाद कर देंगे तुम्हें अपनी चाहत की कैद से;<br/>
मगर, वो शख्स तो लाओ जो हमसे ज्यादा कदर करे तुम्हारी!Upload to Facebook
    आजाद कर देंगे तुम्हें अपनी चाहत की कैद से;
    मगर, वो शख्स तो लाओ जो हमसे ज्यादा कदर करे तुम्हारी!
  • नजाकत ले के आँखों में, वो उनका देखना तौबा;
    या खुदा, हम उन्हें देखें कि उनका देखना देखें!
  • मोहब्बत तो वो बारिश है, जिसे छूने की चाहत में;<br/>
हथेलियां तो गीली हो जाती हैं, पर हाथ खाली ही रह जाते हैं!Upload to Facebook
    मोहब्बत तो वो बारिश है, जिसे छूने की चाहत में;
    हथेलियां तो गीली हो जाती हैं, पर हाथ खाली ही रह जाते हैं!