• अपनी तबाहियों का मुझे कोई गम नहीं;<br/>
तुमने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।Upload to Facebook
    अपनी तबाहियों का मुझे कोई गम नहीं;
    तुमने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी।
    ~ Sahir Ludhianvi
  • ना पाने की खुशी है कुछ, ना खोने का ही कुछ गम है;<br/>
ये दौलत और शोहरत सिर्फ, कुछ ज़ख्मों का मरहम है;<br/>
अजब सी कशमकश है, रोज़ जीने, रोज़ मरने में;<br/>
मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है।Upload to Facebook
    ना पाने की खुशी है कुछ, ना खोने का ही कुछ गम है;
    ये दौलत और शोहरत सिर्फ, कुछ ज़ख्मों का मरहम है;
    अजब सी कशमकश है, रोज़ जीने, रोज़ मरने में;
    मुक्कमल ज़िन्दगी तो है, मगर पूरी से कुछ कम है।
    ~ Dr. Kumar Vishwas
  • दिल की बस्ती अजीब बस्ती है;<br/>
लूटने वाले को तरसती है।Upload to Facebook
    दिल की बस्ती अजीब बस्ती है;
    लूटने वाले को तरसती है।
    ~ Allama Iqbal
  • मैं अकेला ही चला था जानिबे-मंजिल मगर;<br/>
लोग आते गए और कारवां बनता गया।Upload to Facebook
    मैं अकेला ही चला था जानिबे-मंजिल मगर;
    लोग आते गए और कारवां बनता गया।
    ~ Majrooh Sultanpuri
  • आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक;<br/>
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।<br/><br/>

Meaning:<br/>
सर  -  सुलझानाUpload to Facebook
    आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक;
    कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।

    Meaning:
    सर - सुलझाना
    ~ Mirza Ghalib
  • कोई हाथ भी न मिलाएगा, जो गले मिलोगे तपाक से;<br/>
ये नए मिजाज का शहर है, जरा फ़ासले से मिला करो।Upload to Facebook
    कोई हाथ भी न मिलाएगा, जो गले मिलोगे तपाक से;
    ये नए मिजाज का शहर है, जरा फ़ासले से मिला करो।
    ~ Bashir Badr
  • छोटा कर के देखिए जीवन का विस्तार;<br/>
आँखों भर आकाश है, बाहों भर संसार।Upload to Facebook
    छोटा कर के देखिए जीवन का विस्तार;
    आँखों भर आकाश है, बाहों भर संसार।
    ~ Nida Fazli
  • कोई खामोश है इतना, बहाने भूल आया हूँ;<br/>
किसी की इक तरनुम में, तराने भूल आया हूँ;<br/>
मेरी अब राह मत तकना कभी ए आसमां वालो;<br/>
मैं इक चिड़िया की आँखों में, उड़ाने भूल आया हूँ|Upload to Facebook
    कोई खामोश है इतना, बहाने भूल आया हूँ;
    किसी की इक तरनुम में, तराने भूल आया हूँ;
    मेरी अब राह मत तकना कभी ए आसमां वालो;
    मैं इक चिड़िया की आँखों में, उड़ाने भूल आया हूँ|
    ~ Dr. Kumar Vishwas
  • तुम्हारी एक निगाह से कतल होते हैं लोग फ़राज़;<br/>
एक नज़र हम को भी देख लो कि तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती।Upload to Facebook
    तुम्हारी एक निगाह से कतल होते हैं लोग फ़राज़;
    एक नज़र हम को भी देख लो कि तुम बिन ज़िन्दगी अच्छी नहीं लगती।
    ~ Ahmad Faraz
  • मैं रोया परदेस में, भीगा माँ का प्यार;<br/>
दुःख ने दुःख से बात की, बिन चीठी बिन तार।Upload to Facebook
    मैं रोया परदेस में, भीगा माँ का प्यार;
    दुःख ने दुःख से बात की, बिन चीठी बिन तार।
    ~ Nida Fazli