Hindi Shayari

Page: 1
जान-ए-तनहा पे गुज़र जायें हज़ारों सदमें;
आँख से अश्क रवाँ हों ये ज़रूरी तो नहीं।
~ Sahir Ludhianvi
उसे लगता है उसकी चालाकियाँ मुझे समझ नही आती;<br/>
मैं बड़ी खामोशी से देखता हूँ उसे अपनी नज़रों से गिरते हुए।
उसे लगता है उसकी चालाकियाँ मुझे समझ नही आती;
मैं बड़ी खामोशी से देखता हूँ उसे अपनी नज़रों से गिरते हुए।
हमसफ़र तो साथ-साथ चलते हैं;<br/>
रास्ते तो बेवफ़ा बदलते हैं;<br/>
आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में;<br/>
जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं।
हमसफ़र तो साथ-साथ चलते हैं;
रास्ते तो बेवफ़ा बदलते हैं;
आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में;
जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं।
उसकी तलाश में निकलूं भी तो क्या फ़ायदा;
वो बदल गया है खोया होता तो अलग बात होती।
दूर से आये थे...

दूर से आये थे साक़ी सुनके मयख़ाने को हम;
बस तरसते ही चले अफ़सोस पैमाने को हम;

मय भी है, मीना भी है, साग़र भी है साक़ी नहीं;
दिल में आता है लगा दें आग मयख़ाने को हम;

हमको फँसना था क़फ़ज़ में, क्या गिला सय्याद का;
बस तरसते ही रहे हैं, आब और दाने को हम;

बाग में लगता नहीं सहरा में घबराता है दिल;
अब कहाँ ले जा कर बिठाऐं ऐसे दीवाने को हम;

ताक-ए-आबरू में सनम के क्या ख़ुदाई रह गई;
अब तो पूजेंगे उसी क़ाफ़िर के बुतख़ाने को हम;

क्या हुई तक़्सीर हम से, तू बता दे ए 'नज़ीर';
ताकि शादी मर्ग समझें, ऐसे मर जाने को हम।
~ Nazeer Akbarabadi
तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा होता;<br/>
खबर तो होती कि सफ़र कितना तय करना है।
तेरी यादों की कोई सरहद होती तो अच्छा होता;
खबर तो होती कि सफ़र कितना तय करना है।
'एहसान' ऐसा तलख जवाब-ए-वफ़ा मिला;
हम इस के बाद फिर कोई अरमां न कर सके।
~ Ehsaan Danish
घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;<br/>
सारी गली उनकी फिराक मे निकली;<br/>
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;<br/>
और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली।
घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;
सारी गली उनकी फिराक मे निकली;
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;
और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली।
इतनी पीता हूँ कि मदहोश रहता हूँ;
सब कुछ समझता हूँ पर खामोश रहता हूँ;
जो लोग करते हैं मुझे गिराने की कोशिश;
मैं अक्सर उन्ही के साथ रहता हूँ।
बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद;
मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बाद;
तुझ से मोहब्बत थी मुझे बेइन्तहा लेकिन;
अक्सर ये महसूस हुआ तेरे जाने के बाद।

Quotes

किसी मूर्ख व्यक्ति के लिए किताबें उतनी ही उपयोगी हैं जितना कि एक अंधे व्यक्ति के लिए आईना।

Trivia

Interracial marriage was banned in South Africa from 1949 to 1985 (36 years) - It was banned in the U.S. from 1691-1967 (276 years).

Graffiti

Nowadays whatever is not worth saying is sung.