ख़मोशी से मुसीबत और भी संगीन होती है;
तड़प ऐ दिल तड़पने से ज़रा तस्कीन होती है।
Send to your FB Contact's Inbox directly
ज़ख़्म इतने गहरे हैं इज़हार क्या करें;
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें;
मर गए हम मगर खुली रही ये आँखें;
अब इससे ज्यादा उनका इंतज़ार क्या करें।
Send to your FB Contact's Inbox directly
बड़ी तब्दीलियां लायें हैं हम अपने आप में;
पर तुम्हारी याद में रहने की आदत अब भी बाकी है।
Send to your FB Contact's Inbox directly
आपकी याद दिल को बेकरार करती है;
नज़र तालाश आपको बार-बार करती है;
गिला नहीं जो हम हैं दूर आपसे;
हमारी तो जुदाई भी आपसे प्यार करती है।
Send to your FB Contact's Inbox directly
वो कभी मिल जाएँ तो...

वो कभी मिल जाएँ तो क्या कीजिए;
रात दिन सूरत को देखा कीजिए;

चाँदनी रातों में एक एक फूल को;
बे-ख़ुदी कहती है सजदा कीजिए;

जो तमन्ना बर न आए उम्र भर;
उम्र भर उस की तमन्ना कीजिए;

इश्क़ की रंगीनियों में डूब कर;
चाँदनी रातों में रोया कीजिए;

हम ही उस के इश्क़ के क़ाबिल न थे;
क्यों किसी ज़ालिम का शिकवा कीजिए;

कहते हैं 'अख़्तर' वो सुन कर मेरे शेर;
इस तरह हम को न रुसवा कीजिए।
Send to your FB Contact's Inbox directly
दिल वो नगर नहीं है कि फिर आबाद हो सके;
पछताओगे सुनो हो ये बस्ती उजाड़ कर।
Send to your FB Contact's Inbox directly
बड़ी मुद्दत से चाहा है तुम्हें;
बड़ी दुआओं से पाया है तुम्हें;
तुम ने भुलाने का सोचा भी कैसे;
किस्मत की लकीरों से चुराया है तुम्हें।
Send to your FB Contact's Inbox directly
मोहब्बत मुक़द्दर है एक ख्वाब नहीं;
ये वो अदा है जिसमे सब कामयाब नहीं;
जिन्हें पनाह मिली उन्हें उँगलियों पर गिन लो;
मगर जो फना हुए उनका कोई हिसाब नहीं।
Send to your FB Contact's Inbox directly
आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद;
आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह;
लाख ये चाहा कि उसे भूल जायेँ पर;
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह।
Send to your FB Contact's Inbox directly
मुझ पे तूफ़ाँ...

मुझ पे तूफ़ाँ उठाये लोगों ने;
मुफ़्त बैठे बिठाये लोगों ने;

कर दिए अपने आने-जाने के;
तज़किरे जाये-जाये लोगों ने;

वस्ल की बात कब बन आयी थी;
दिल से दफ़्तर बनाये लोगों ने;

बात अपनी वहाँ न जमने दी;
अपने नक़्शे जमाये लोगों ने;

सुनके उड़ती-सी अपनी चाहत की;
दोनों के होश उड़ाये लोगों ने;

क्या तमाशा है जो न देखे थे;
वो तमाशे दिखाये लोगों ने;

कर दिया 'मोमिन' उस सनम को ख़फ़ा;
क्या किया हाये- हाये लोगों ने।
Send to your FB Contact's Inbox directly
English Shayari
Hindi Shayari
September 2014
SunMonTueWedThuFriSat
 
1
2
3
4
6
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
26
27
29
30