• तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज़ू;<br/>
इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में।
    तेरा ख़याल तेरी तलब और तेरी आरज़ू;
    इक भीड़ सी लगी है मेरे दिल के शहर में।
  • अपनी मोहब्बत पे फक़त इतना भरोसा है मुझे;<br/>
मेरी वफायें तुझे किसी और का होने न देंगी।
    अपनी मोहब्बत पे फक़त इतना भरोसा है मुझे;
    मेरी वफायें तुझे किसी और का होने न देंगी।
  • एक उम्र बीत चली है तुझे चाहते हुए;< br/>
तू आज भी बेखबर है कल की तरह।
    एक उम्र बीत चली है तुझे चाहते हुए;< br/> तू आज भी बेखबर है कल की तरह।
  • खड़े-खड़े साहिल पर हमने शाम कर दी,<br/>
अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी;<br/>
ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,<br/>
बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी
    खड़े-खड़े साहिल पर हमने शाम कर दी,
    अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी;
    ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,
    बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी
  • होंठो पर देखो फिर आज मेरा नाम आया है,<br/>
लेकर नाम मेरा देखो महबूब कितना शरमाया है;<br/>
पूछे उनसे मेरी आँखें कितना इश्क है मुझसे,<br/>
पलकें झुकाके वो बोले कि मेरी हर साँस में बस तू ही समाया है।
    होंठो पर देखो फिर आज मेरा नाम आया है,
    लेकर नाम मेरा देखो महबूब कितना शरमाया है;
    पूछे उनसे मेरी आँखें कितना इश्क है मुझसे,
    पलकें झुकाके वो बोले कि मेरी हर साँस में बस तू ही समाया है।
  • सुबह होते ही जब दुनिया आबाद होती है,<br/>
आँख खुलते ही दिल में आपकी याद होती है;<br/>
खुशियों के फूल हों आपके आँचल में,<br/>
ये मेरे होंठों पे पहली फ़रियाद होती है।
    सुबह होते ही जब दुनिया आबाद होती है,
    आँख खुलते ही दिल में आपकी याद होती है;
    खुशियों के फूल हों आपके आँचल में,
    ये मेरे होंठों पे पहली फ़रियाद होती है।
  • उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ, पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे;<br/>
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ, काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।
    उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ, पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे;
    ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ, काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।
  • तुम हँसो तो खुशी मुझे होती है, तुम रूठी तो आँखें मेरी रोती हैं;<br/>
तुम दूर जाओ तो बेचैनी मुझे होती है, महसूस करके देखो मोहब्बत ऐसी होती है!
    तुम हँसो तो खुशी मुझे होती है, तुम रूठी तो आँखें मेरी रोती हैं;
    तुम दूर जाओ तो बेचैनी मुझे होती है, महसूस करके देखो मोहब्बत ऐसी होती है!
  • मिल जाएंगे तुमको और भी चाहने वाले दुनिया में;<br/>
मगर कर न पाएगा कोई मुकाबला मोहब्बत का मेरी!
    मिल जाएंगे तुमको और भी चाहने वाले दुनिया में;
    मगर कर न पाएगा कोई मुकाबला मोहब्बत का मेरी!
  • अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते हो;<br/>
सीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से प्यार करते हो!
    अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते हो;
    सीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से प्यार करते हो!