• इश्क जाने ये  कैसा  मौसम ले आया है;<br/>
के ग़म की बरसात में दोनों भीग रहे!
    इश्क जाने ये कैसा मौसम ले आया है;
    के ग़म की बरसात में दोनों भीग रहे!
  • इन आँखों में सूरत तेरी सुहानी है;<br/>
मोम सी पिघल रही मेरी जवानी है;<br/>
जिस शिद्दत से सितम हुए थे हम पर;<br/>
मर जाना चाहिए था, जिंदा हैं, हैरानी है!
    इन आँखों में सूरत तेरी सुहानी है;
    मोम सी पिघल रही मेरी जवानी है;
    जिस शिद्दत से सितम हुए थे हम पर;
    मर जाना चाहिए था, जिंदा हैं, हैरानी है!
  • मोहब्बत के आँसू को यूँ बहाया नहीं जाता;<br/>
इस मोती को पागल यूँ गंवाया नहीं जाता;<br/>
लिए हैं बोसे मैंने लब-ए-जाना के जब से;<br/>
ऐसे - वैसों से मुंह अब लगाया नहीं जाता!
    मोहब्बत के आँसू को यूँ बहाया नहीं जाता;
    इस मोती को पागल यूँ गंवाया नहीं जाता;
    लिए हैं बोसे मैंने लब-ए-जाना के जब से;
    ऐसे - वैसों से मुंह अब लगाया नहीं जाता!
  • न झगड़ें हम आपस में, झगड़कर टूट जायेंगे,<br/>
तुम्हारा आइना हम हैं, हमारा आइना तुम हो!
    न झगड़ें हम आपस में, झगड़कर टूट जायेंगे,
    तुम्हारा आइना हम हैं, हमारा आइना तुम हो!
  • दिल पे तन्हाई के सियाह अब्र छाने लगे हैं;<br/>
तेरे ग़म की लगता है बरसात होने वाली है!
    दिल पे तन्हाई के सियाह अब्र छाने लगे हैं;
    तेरे ग़म की लगता है बरसात होने वाली है!
  • हाल जब भी पूछो खैरियत बताते हो;<br/>
लगता है मोहब्बत छोड़ दी तुमने!
    हाल जब भी पूछो खैरियत बताते हो;
    लगता है मोहब्बत छोड़ दी तुमने!
  • यूँ ही नहीं ये सिरहाने, तेरी खुशबू से भर गए होंगे,<br/>

महके हुए कुछ ख़्वाब तेरे, मेरी आँखों से गिर गए होंगे!
    यूँ ही नहीं ये सिरहाने, तेरी खुशबू से भर गए होंगे,
    महके हुए कुछ ख़्वाब तेरे, मेरी आँखों से गिर गए होंगे!
  • शायद किसी लकीर में मिल जाऊं;<br/>
मुझे कुछ क़रीब से देखने दे हथेली तेरी!
    शायद किसी लकीर में मिल जाऊं;
    मुझे कुछ क़रीब से देखने दे हथेली तेरी!
  • ऐसे माहौल में दवा क्या है दुआ क्या है;<BR/>
जहां कातिल ही खुद पूछे कि हुआ क्या है!
    ऐसे माहौल में दवा क्या है दुआ क्या है;
    जहां कातिल ही खुद पूछे कि हुआ क्या है!
  • आ तेरी रूह को अपने प्यार के रंगों से सराबोर कर दूँ,<br/>
महकने लगेंगी साँसें तेरी, ऐसी सुगंध बफाओं की भर दूँ।
    आ तेरी रूह को अपने प्यार के रंगों से सराबोर कर दूँ,
    महकने लगेंगी साँसें तेरी, ऐसी सुगंध बफाओं की भर दूँ।