• हमसफ़र तो साथ-साथ चलते हैं;<br/>
रास्ते तो बेवफ़ा बदलते हैं;<br/>
आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में;<br/>
जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं।
    हमसफ़र तो साथ-साथ चलते हैं;
    रास्ते तो बेवफ़ा बदलते हैं;
    आपका चेहरा है जब से मेरे दिल में;
    जाने क्यों लोग मेरे दिल से जलते हैं।
  • घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;<br/>
सारी गली उनकी फिराक मे निकली;<br/>
इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;<br/>
और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली।
    घर से बाहर वो नक़ाब मे निकली;
    सारी गली उनकी फिराक मे निकली;
    इनकार करते थे वो हमारी मोहब्बत से;
    और हमारी ही तस्वीर उनकी किताब से निकली।
  • मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा;<br/>
बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए।
    मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा;
    बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए।
    ~ Ehsaan Danish
  • निकलते हैं तेरे आशियां के आगे से यह सोच कर कि तेरा दीदार हो जायेगा;
    खिड़की से तेरी सूरत न सही तेरा साया तो नजर आएगा।
  • चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं;
    मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;
    बच के रहना इन हुस्न वालों से यारो;
    इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।
  • साहिल पर खड़े-खड़े हमने शाम कर दी;
    अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी;
    ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी;
    बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।
  • आँखों मे आ जाते है आँसू;<br/>
फिर भी लबों पे हँसी रखनी पड़ती है;<br/>
ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;<br/>
जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है।
    आँखों मे आ जाते है आँसू;
    फिर भी लबों पे हँसी रखनी पड़ती है;
    ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;
    जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है।
  • न हम कुछ कह पाते हैं, न वो कुछ कह पाते हैं;
    एक दूसरे को देखकर गुजर जाया करते हैं;
    कब तक चलता रहेगा ये सिलसिला;
    ये सोचकर दिन गुजर जाया करते हैं।
  • शायर तो हम है शायरी बना देंगे;<br/>
आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे;<br/>
कभी सुनाओ हमें अपनी आवाज़;<br/>
आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे।
    शायर तो हम है शायरी बना देंगे;
    आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे;
    कभी सुनाओ हमें अपनी आवाज़;
    आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे।
  • कब तक होश संभाले कोई, होश उड़े तो उड़ जाने दो;
    दिल कब सीधी राह चला है, राह मुड़े तो मुड़ जाने दो।