• ना पूछ दिल की हक़ीक़त मगर ये कहता है;
    वो बेक़रार रहे जिसने बेक़रार किया।
  • वो मेरे दिल पर सिर रखकर सोई थी बेखबर;<br/>
हमने धड़कन ही रोक ली कि कहीं उसकी नींद ना टूट जाए।Upload to Facebook
    वो मेरे दिल पर सिर रखकर सोई थी बेखबर;
    हमने धड़कन ही रोक ली कि कहीं उसकी नींद ना टूट जाए।
  • आँसू आ जाते हैं आँखों में;
    पर लबों पर हंसी लानी पड़ती है;
    ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो;
    जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है।
  • ​रिश्तों का धागा इतना कच्चा नहीं होता;<br/>
किसी का दिल तोड़ना अच्छा नहीं होता;<br/>
प्यार तो दिल की आवाज़ है;<br/>
कौन कहता है एक तरफ़ का प्यार सच्चा नहीं होता​।Upload to Facebook
    ​रिश्तों का धागा इतना कच्चा नहीं होता;
    किसी का दिल तोड़ना अच्छा नहीं होता;
    प्यार तो दिल की आवाज़ है;
    कौन कहता है एक तरफ़ का प्यार सच्चा नहीं होता​।
  • कितना प्यार है उनसे काश वो ये जान लें;<br/>
वो ही है ज़िंदगी मेरी ये बात मान लें;<br/>
उनको देने को नहीं कुछ पास हमारे;<br/>
बस एक जान है हमारी जब चाहे मांग लें!Upload to Facebook
    कितना प्यार है उनसे काश वो ये जान लें;
    वो ही है ज़िंदगी मेरी ये बात मान लें;
    उनको देने को नहीं कुछ पास हमारे;
    बस एक जान है हमारी जब चाहे मांग लें!
  • जिनको हमने चाहा मोहब्बत की हदें तोड़ कर;<br/>
आज उसने देखा नहीं निगाह मोड़ कर;<br/>
ये जान कर बहुत दुःख हुआ मुझे;<br/>
कि वो खुद भी तन्हा हो गये मुझे छोड़ कर!Upload to Facebook
    जिनको हमने चाहा मोहब्बत की हदें तोड़ कर;
    आज उसने देखा नहीं निगाह मोड़ कर;
    ये जान कर बहुत दुःख हुआ मुझे;
    कि वो खुद भी तन्हा हो गये मुझे छोड़ कर!
  • ऐ मोहब्बत, तुझे पाने की कोई राह नहीं;
    तू तो उसे ही मिलेगी, जिसे तेरी परवाह नहीं।
  • कसूर ना उनका था ना हमारा;<br/>
हम दोनों ही रिश्तों की रसम निभाते रहे;<br/>
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे;<br/>
और हम मोहब्बत को दिल में छुपाते रहे​।Upload to Facebook
    कसूर ना उनका था ना हमारा;
    हम दोनों ही रिश्तों की रसम निभाते रहे;
    वो दोस्ती का एहसास जताते रहे;
    और हम मोहब्बत को दिल में छुपाते रहे​।
  • वो खुदा था मेरा अब मेरा ईमान है; ​​
    चला गया छोड़ कर, इसलिए दिल उदास है;
    बेवफा नही कहूंगा ​मैं उसको;
    क्यूंकी इश्क़ करना उसका मुझ पर अहसान है।
  • प्यार में कोई तो दिल तोड़ देता है;
    दोस्ती मेँ कोई तो भरोसा तोड़ देता है;
    जिंदगी जीना तो कोई गुलाब से सीखे;
    जो खुद टूट कर दो दिलों को जोड़ देता है।