• उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी;
    उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी!
  • तुम्हारे पास नहीं तो फिर किस के पास है?
    वो टुटा हुआ दिल, आखिर गया कहाँ!
  • ये डूबने वाले का ही होता हे कोई फन;
    आँखों में किसी के भी समंदर नहीं होता!
  • दिल की धड़कन और मेरी सदा है वो;
    मेरी पहली और आखिरी वफ़ा है वो;
    चाहा है उसे चाहत से बड़ कर;
    मेरी चाहत और चाहत की इंतिहा है वो!
  • तुम मुझे मौका तो दो ऐतबार बनाने का;
    थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते!
  • आज असमान के तारों ने मुझे पूछ लिया;
    क्या तुम्हें अब भी इंतज़ार है उसके लौट आने का!
    मैंने मुस्कुराकर कहा;
    तुम लौट आने की बात करते हो;
    मुझे तो अब भी यकीन नहीं उसके जाने का!
  • माना आज उन्हें हमारा कोई ख़याल नहीं;
    जवाब देने को हम राज़ी है, पर कोई सवाल नहीं!
    पूछो उनके दिल से क्या हम उनके यार नहीं;
    क्या हमसे मिलने को वो बेकरार नहीं!
  • रेत पर नाम कभी लिखते नहीं;
    रेत पर नाम कभी टिकते नहीं;
    लोग कहते है कि हम पत्थर दिल हैं;
    लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं!
  • महोब्बत और नफरत सब मिल चुके हैं मुझे;
    मैं अब तकरीबन मुकम्मल हो चोका हूँ!
  • इश्क के रिश्ते कितने अजीब होते है?
    दूर रहकर भी कितने करीब होते है;
    मेरी बर्बादी का गम न करो;
    ये तो अपने अपने नसीब होते हैं!