• सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं;<br/>
दूर वो मुझसे हैं पर मैं खफा नहीं;<br/>
मालूम है अब भी वो प्यार करते हैं मुझसे;<br/>
वो थोड़ा सा जिद्दी है, मगर बेवफा नहीं!
    सब कुछ है मेरे पास पर दिल की दवा नहीं;
    दूर वो मुझसे हैं पर मैं खफा नहीं;
    मालूम है अब भी वो प्यार करते हैं मुझसे;
    वो थोड़ा सा जिद्दी है, मगर बेवफा नहीं!
  • Aksar Log Apni Chahat Ki Taarif Karte Hein;<br/>
Tanke Woh Khaafa Na Ho Jayein;<br/>
Hum Isliye Khamosh Rehte Hein;<br/>
Tanke Koi Aur Unpe Fida Na Ho Jaye!
    Aksar Log Apni Chahat Ki Taarif Karte Hein;
    Tanke Woh Khaafa Na Ho Jayein;
    Hum Isliye Khamosh Rehte Hein;
    Tanke Koi Aur Unpe Fida Na Ho Jaye!
  • तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में, अय दोस्त;<br />
दर्द हो तो समझ लेना कि महोब्बत अभी बाकी है।
    तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में, अय दोस्त;
    दर्द हो तो समझ लेना कि महोब्बत अभी बाकी है।
  • Kya Dhoondtey Ho Tum Ishq Ko Aye Bekhabar;
    Yeh Khud Hi Dhond Leta Hai, Jisse Barbaad Karna Ho!
  • धोखा दिया था जब तूने मुझे, जिंदगी से मैं नाराज था;
    सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं, मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था।
  • तुम्हारी दुनिया से जाने के बाद;<br />
हम तुम्हें हर एक तारे में नज़र आया करेंगे;<br />
तुम हर पल कोई दुआ माँग लेना;<br />
और हम हर पल टूट जाया करेंगे।
    तुम्हारी दुनिया से जाने के बाद;
    हम तुम्हें हर एक तारे में नज़र आया करेंगे;
    तुम हर पल कोई दुआ माँग लेना;
    और हम हर पल टूट जाया करेंगे।
  • जब भी उनकी गली से गुज़रता हूँ;
    मेरी आंखें एक दस्तक दे देती हैं;
    दुःख ये नहीं, वो दरवाजा बंद कर देते हैं;
    खुशी ये है, वो मुझे अब भी पहचान लेते हैं!
  • कोई चाँद से मोहब्बत करता है;<br />
कोई सूरज से मोहब्बत करता है;<br />
हम उनसे मोहब्बत करते हैं;<br />
जो हमसे मोहब्बत करते हैं।
    कोई चाँद से मोहब्बत करता है;
    कोई सूरज से मोहब्बत करता है;
    हम उनसे मोहब्बत करते हैं;
    जो हमसे मोहब्बत करते हैं।
  • चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो;<br />
सांसों में मेरी खुशबु बन के बिखर जाते हो;<br />
कुछ यूँ चला है तेरे 'इश्क' का जादू;<br />
सोते-जागते तुम ही तुम नज़र आते हो।
    चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो;
    सांसों में मेरी खुशबु बन के बिखर जाते हो;
    कुछ यूँ चला है तेरे 'इश्क' का जादू;
    सोते-जागते तुम ही तुम नज़र आते हो।
  • इश्क है वही जो हो एक तरफा;<br />
इजहार है इश्क तो ख्वाईश बन जाती है;<br />
है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ;<br />
जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।
    इश्क है वही जो हो एक तरफा;
    इजहार है इश्क तो ख्वाईश बन जाती है;
    है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ;
    जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।