• एक सुकून की तालाश में, ना जाने कितनी बेचैनियाँ पाल ली;<br/>
और लोग कहते हैं, हम बड़े हो गये और ज़िन्दगी संभाल ली।Upload to Facebook
    एक सुकून की तालाश में, ना जाने कितनी बेचैनियाँ पाल ली;
    और लोग कहते हैं, हम बड़े हो गये और ज़िन्दगी संभाल ली।
  • किस नाज़ से कहते हैं वो झुंजला के शब-ए-वस्ल;<br/>
तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते।<br/><br/>

शब-ए-वस्ल  =   मिलन की रातUpload to Facebook
    किस नाज़ से कहते हैं वो झुंजला के शब-ए-वस्ल;
    तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते।

    शब-ए-वस्ल = मिलन की रात
    ~ Akbar Allahabadi
  • किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल;<br/>
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा!Upload to Facebook
    किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल;
    कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा!
  • अर्ज़-ओ-समा कहाँ तिरी वुसअत को पा सके;<br/>
मेरा ही दिल है वो कि जहाँ तू समा सके!<br/><br/>

अर्ज़-ओ-समा  =  धरती और आकाश<br/>  
वुसअत  =  विशालता, सम्पूर्णताUpload to Facebook
    अर्ज़-ओ-समा कहाँ तिरी वुसअत को पा सके;
    मेरा ही दिल है वो कि जहाँ तू समा सके!

    अर्ज़-ओ-समा = धरती और आकाश
    वुसअत = विशालता, सम्पूर्णता
    ~ Khwaja Mir Dard
  • अगर इश्क करो तो आदाब-ए-वफ़ा भी सीखो;<br/>
ये चंद दिन की बेकरारी मोहब्बत नहीं होती!Upload to Facebook
    अगर इश्क करो तो आदाब-ए-वफ़ा भी सीखो;
    ये चंद दिन की बेकरारी मोहब्बत नहीं होती!
  • आज गुमनाम हूँ तो ज़रा फासला रख मुझसे;<br/>
कल फिर मशहूर हो जाऊँ तो कोई रिश्ता निकाल लेना!Upload to Facebook
    आज गुमनाम हूँ तो ज़रा फासला रख मुझसे;
    कल फिर मशहूर हो जाऊँ तो कोई रिश्ता निकाल लेना!
  • आप पहलू में जो बैठें तो सँभल कर बैठें;<br/>
दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की!<br/><br/>



दिल-ए-बेताब  =  बेचैन दिलUpload to Facebook
    आप पहलू में जो बैठें तो सँभल कर बैठें;
    दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की!

    दिल-ए-बेताब = बेचैन दिल
    ~ Jaleel Manikpuri
  • पसंद आ गए हैं कुछ लोगों को हम;<br/>
कुछ लोगों को ये बात पसंद नहीं आयी।Upload to Facebook
    पसंद आ गए हैं कुछ लोगों को हम;
    कुछ लोगों को ये बात पसंद नहीं आयी।
  • दिल की बिसात क्या थी निगाह-ए-जमाल में;<br/>
इक आइना था टूट गया देख-भाल में!
Upload to Facebook
    दिल की बिसात क्या थी निगाह-ए-जमाल में;
    इक आइना था टूट गया देख-भाल में!
    ~ Seemab Akbarabadi
  • मज़हब, दौलत, ज़ात, घराना, सरहद, ग़ैरत, खुद्दारी;<br/>
एक मोहब्बत की चादर को, कितने चूहे कुतर गए।Upload to Facebook
    मज़हब, दौलत, ज़ात, घराना, सरहद, ग़ैरत, खुद्दारी;
    एक मोहब्बत की चादर को, कितने चूहे कुतर गए।