• कितना अजीब है ये फलसफा जिंदगी का;<BR/>
दूरियाँ सिखाती हैं कि, नज़दीकियाँ क्या होती हैं!
    कितना अजीब है ये फलसफा जिंदगी का;
    दूरियाँ सिखाती हैं कि, नज़दीकियाँ क्या होती हैं!
  • कुछ नहीँ था मेरे पास खोने को;<br/>
जब से मिले हो तुम डर गया हूँ मैँ |
    कुछ नहीँ था मेरे पास खोने को;
    जब से मिले हो तुम डर गया हूँ मैँ |
  • जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना;<br/>
बहुत तङपाते हैं अक्सर सीने से लगाने वाले!
    जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता रखना;
    बहुत तङपाते हैं अक्सर सीने से लगाने वाले!
  • दिल का क्या है तेरी यादों के सहारे जी लेगा,<br/>
हैरान तो आँखें हैं तड़पती हैं तेरे दीदार को।
    दिल का क्या है तेरी यादों के सहारे जी लेगा,
    हैरान तो आँखें हैं तड़पती हैं तेरे दीदार को।
  • कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है;
    मगर धरती की बेचैनी को बस बादल समझता है;
    मैं तुझसे दूर कैसा हूँ, तू मुझसे दूर कैसी है;
    ये तेरा दिल समझता है, या मेरा दिल समझता है!
    ~ Dr. Kumar Vishwas
  • तुम नाराज हो जाओ, रूठो या खफा हो जाओ;<br/>
पर बात इतनी भी ना बिगाड़ो की जुदा हो जाओ!
    तुम नाराज हो जाओ, रूठो या खफा हो जाओ;
    पर बात इतनी भी ना बिगाड़ो की जुदा हो जाओ!
  • भूल तो जाऊं तुझे;<br/>
फिर मेरे पास रहेगा क्या!
    भूल तो जाऊं तुझे;
    फिर मेरे पास रहेगा क्या!
  • मेरी आँखों में आँसू नहीं बस कुछ नमी है;<br/>
वजह आप नही आप की कमी है!
    मेरी आँखों में आँसू नहीं बस कुछ नमी है;
    वजह आप नही आप की कमी है!
  • फिर खो न जाएँ हम कहीं दुनिया की भीड़ में;
    मिलती है पास आने की मोहलत कभी कभी!
  • मिलना इतिफाक था बिछरना नसीब था;
    वो तुना हे दूर चला गया जितना वो करीब था;
    हम उसको देखने क लिए तरसते रहे;
    जिस शख्स की हथेली पे हमारा नसीब था!