• तुम भी कर के देख लो मोहब्बत किसी से;<br/>
जान जाओगे कि हम मुस्कुराना क्यों भूल गए।Upload to Facebook
    तुम भी कर के देख लो मोहब्बत किसी से;
    जान जाओगे कि हम मुस्कुराना क्यों भूल गए।
  • पा लिया था दुनिया की सबसे हसीन को;
    इस बात का तो हमें कभी गुरूर न था;
    वो रह पाते पास कुछ दिन और हमारे;
    शायद यह हमारे नसीब को मंज़ूर नहीं था।
  • इस बहते दर्द को मत रोको;<br/>
यह तो सज़ा है किसी के इंतज़ार की;<br/>
लोग इन्हे आँसू कहे या दीवानगी;<br/>
पर यह तो निशानी है किसी के प्यार की।Upload to Facebook
    इस बहते दर्द को मत रोको;
    यह तो सज़ा है किसी के इंतज़ार की;
    लोग इन्हे आँसू कहे या दीवानगी;
    पर यह तो निशानी है किसी के प्यार की।
  • इन्हीं रास्तों ने जिन पर मेरे साथ तुम चले थे;
    मुझे रोक रोक पूछा तेरा हम-सफ़र कहाँ है।
    ~ Bashir Badr
  • कहने देती नहीं कुछ मुँह से मोहब्बत मेरी;
    लब पे रह जाती है आ आ के शिकायत मेरी।
    ~ Daagh Dehlvi
  • बिन बताये उसने ना जाने क्यों ये दूरी कर दी;<br/>
बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी;<br/>
मेरे मुकद्दर में ग़म आये तो क्या हुआ;<br/>
खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी।Upload to Facebook
    बिन बताये उसने ना जाने क्यों ये दूरी कर दी;
    बिछड़ के उसने मोहब्बत ही अधूरी कर दी;
    मेरे मुकद्दर में ग़म आये तो क्या हुआ;
    खुदा ने उसकी ख्वाहिश तो पूरी कर दी।
  • मेरे दिल में न आओ वरना डूब जाओगे;
    ग़म-ए-अश्कों के सिवा कुछ भी नहीं अंदर;
    अगर एक बार रिसने लगा जो पानी;
    तो कम पड़ जायेगा भरने के लिए समंदर।
  • आज उसने हमें एक और दर्द दिया तो हमें याद आया;
    कि दुआओं में हमने ही तो उसके सारे दर्द मांगे थे।
  • खुश रहे तू है जहाँ, ले जा दुआएं मेरी;
    तेरी राहों से जुदा हो गयी हैं राहें मेरी;
    कुछ नहीं पास मेरे अब खाली हाथ हैं;
    किसी और की नहीं सब खतायें हैं मेरी।
  • जमीन छुपाने के लिए गगन होता है;<br/>
दिल छुपाने के लिए बदन होता है;<br/>
शायद मरने के बाद भी छुपाये जाते हैं गम;<br/>
इसीलिए हर लाश पे कफ़न होता है।Upload to Facebook
    जमीन छुपाने के लिए गगन होता है;
    दिल छुपाने के लिए बदन होता है;
    शायद मरने के बाद भी छुपाये जाते हैं गम;
    इसीलिए हर लाश पे कफ़न होता है।