• सुना है कि तुम रातों को देर तक जागते हो,<br/>
यादों के मारे हो या मोहब्बत मे हारे हो।Upload to Facebook
    सुना है कि तुम रातों को देर तक जागते हो,
    यादों के मारे हो या मोहब्बत मे हारे हो।
  • उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;<br/>
ना जाने कसी गली में ज़िन्दगी की शाम हो।Upload to Facebook
    उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
    ना जाने कसी गली में ज़िन्दगी की शाम हो।
  • अजीब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर;<br/>
सो जाऊं तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं।Upload to Facebook
    अजीब जुल्म करती हैं तेरी यादें मुझ पर;
    सो जाऊं तो उठा देती हैं जाग जाऊँ तो रुला देती हैं।
  • आज मुस्कुराने की हिम्मत नहीं मुझ में,<br/>
आज टूट कर मुझे उसकी याद आ रही है।Upload to Facebook
    आज मुस्कुराने की हिम्मत नहीं मुझ में,
    आज टूट कर मुझे उसकी याद आ रही है।
  • जब जब तेरी यादों का रमज़ान आता हैं,<br/>
मेरी आँखें नींद के रोज़े रखती है।Upload to Facebook
    जब जब तेरी यादों का रमज़ान आता हैं,
    मेरी आँखें नींद के रोज़े रखती है।
  • मत पूछो कि मै अल्फाज कहाँ से लाता हूँ,<br />
ये उसकी यादों का खजाना है, बस लुटाये जा रहा हूँ।Upload to Facebook
    मत पूछो कि मै अल्फाज कहाँ से लाता हूँ,
    ये उसकी यादों का खजाना है, बस लुटाये जा रहा हूँ।
  • आज ये पल है, कल बस यादें होंगी;<br />
जब ये पल ना होंगे, तब सिर्फ बातें होंगी;<br />
जब पलटोगे जिंदगी के पन्नों को;<br />
तो कुछ पन्नों पर आँखें नम और कुछ पर मुस्कुराहटें होंगी।Upload to Facebook
    आज ये पल है, कल बस यादें होंगी;
    जब ये पल ना होंगे, तब सिर्फ बातें होंगी;
    जब पलटोगे जिंदगी के पन्नों को;
    तो कुछ पन्नों पर आँखें नम और कुछ पर मुस्कुराहटें होंगी।
  • कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी,<br />
हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आता है।Upload to Facebook
    कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी,
    हजारो अपने है मगर याद सिर्फ वो ही आता है।
  • समझा दो तुम अपनी यादों को ज़रा;
    दिन रात तंग करती हैं मुझे कर्ज़दार की तरह।
  • हर रात रो-रो के उसे भुलाने लगे;
    आंसुओं में उस के प्यार को बहाने लगे;
    ये दिल भी कितना अजीब है कि;
    रोये हम तो वो और भी याद आने लगे।