• कहीं यादों का मुकाबला हो तो बताना, जनाब;
    हमारे पास भी किसी की यादें बेहिसाब होती जा रही हैं!
  • तेरे ख़त में इश्क़ की गवाही आज भी है,<br/>
हर्फ़ धुंधले हो गए हैं मगर स्याही आज भी है।Upload to Facebook
    तेरे ख़त में इश्क़ की गवाही आज भी है,
    हर्फ़ धुंधले हो गए हैं मगर स्याही आज भी है।
  • सरहदें तोड़ के आ ज़ाती है किसी पंछी की तरह,<br/>
यह तेरी याद है जो बंटती नहीं मुल्कों की तरह।Upload to Facebook
    सरहदें तोड़ के आ ज़ाती है किसी पंछी की तरह,
    यह तेरी याद है जो बंटती नहीं मुल्कों की तरह।
  • वो वक़्त वो लम्हें कुछ अजीब होंगे;
    दुनिया में हम खुश नसीब होंगे;
    दूर से जब इतना याद करते हैं आपको;
    क्या होगा जब आप हमारे करीब होंगे!
  • कभी कभी इतनी शिद्दत से आपकी याद आती है;<br/>
मैं पलकों को मिलाता हूँ, तो आँखें भीग जाती हैं!Upload to Facebook
    कभी कभी इतनी शिद्दत से आपकी याद आती है;
    मैं पलकों को मिलाता हूँ, तो आँखें भीग जाती हैं!
  • नींद आये या ना आये, चिराग बुझा दिया करो,
    किसी की याद में किसी और को जलाना अच्छी बात नहीं।
  • यह यादों का ही रिशता है, जो छूटता नहीं;
    वरना मुद्दत हुई कि वो दामन, छुडा चले गए।
  • बैठे थे अपनी याद लेकर कि अचानक चौंक उठे;<br/>
किसी ने शरारत से कह दिया सुनो वो मिलने आये हैं।Upload to Facebook
    बैठे थे अपनी याद लेकर कि अचानक चौंक उठे;
    किसी ने शरारत से कह दिया सुनो वो मिलने आये हैं।
  • रख दी गयी कायनात हमारे क़दमों में;<br/>
मगर हमने तुम्हारी यादों का सौदा नहीं किया।Upload to Facebook
    रख दी गयी कायनात हमारे क़दमों में;
    मगर हमने तुम्हारी यादों का सौदा नहीं किया।
  • यादें भी क्या क्या करा देती हैं,
    कोई शायर हो गया तो कोई खामोश हो गया।