• दुनिया के ज़ोर प्यार के दिन याद आ गये;
    दो बाज़ुओ की हार के दिन याद आ गये;
    गुज़रे वो जिस तरफ से बज़ाए महक उठी;
    सबको भरी बहार के दिन याद आ गये।
    ~ Khumar Barabankvi
  • तेरी यादें भी न मेरे बचपन के खिलौने जैसी हैं;
    तन्हा होता हूँ तो इन्हें लेकर बैठ जाता हूँ।
  • अभी मशरूफ हूँ काफी कभी फुर्सत में सोचूंगा;<br />
कि तुझको याद रखने में मैं क्या - क्या भूल जाता हूँ।Upload to Facebook
    अभी मशरूफ हूँ काफी कभी फुर्सत में सोचूंगा;
    कि तुझको याद रखने में मैं क्या - क्या भूल जाता हूँ।
  • यह याद है आपकी या यादों में आप हो;
    यह ख्वाब है आपके या ख्वाबों में आप हो;
    हम नहीं जानते बस इतना बता दो;
    हम जान है आपकी या जान हमारी आप हो?
  • अब सोचते हैं लाएँगे तुझ सा कहाँ से हम;
    उठने को उठ तो आए तेरे आस्ताँ से हम।
    ~ Majrooh Sultanpuri
  • समंदर के सफर में इस तरह आवाज़ दो हमको;
    हवाएं तेज़ हो जायें और कश्तियों में शाम हो जाये;
    उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
    ना जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये।
  • बन कर अजनबी मिले थे ज़िंदगी के सफ़र में;
    इन यादों के लम्हों को मिटायेंगे नहीं;
    अगर याद रखना फितरत है आपकी;
    तो वादा है हम भी आपको भुलायेंगे नहीं।
  • तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी;<br />
किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी;<br />
महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा प्यार को;<br />
बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी।Upload to Facebook
    तन्हाई मेरे दिल में समाती चली गयी;
    किस्मत भी अपना खेल दिखाती चली गयी;
    महकती फ़िज़ा की खुशबू में जो देखा प्यार को;
    बस याद उनकी आई और रुलाती चली गयी।
  • याद रूकती नहीं रोक पाने से;
    दिल मानता नहीं किसी के समझाने से;
    रुक जाती हैं धड़कनें आपको भूल जाने से;
    इसलिए आपको याद करते हैं जीने के बहाने से।
  • यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे;<br/>
मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे;<br/>
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम;<br/>
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।Upload to Facebook
    यकीन अपनी चाहत का इतना है मुझे;
    मेरी आँखों में देखोगे और लौट आओगे;
    मेरी यादों के समंदर में जो डूब गए तुम;
    कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे।