• शराब पी के रात को हम उनको भुलाने लगे;
    शराब मे ग़म को मिलाने लगे;
    ये शराब भी बेवफा निकली यारो;
    नशे मे तो वो और भी याद आने लगे।
  • पी के रात को हम उनको भूलने लगे;<br/>
शराब में गम को मिलाने लगे;<br/>
दारु भी बेवफ़ा निकली यारों;<br/>
नशे में तो वो भी याद आने लगे।
    पी के रात को हम उनको भूलने लगे;
    शराब में गम को मिलाने लगे;
    दारु भी बेवफ़ा निकली यारों;
    नशे में तो वो भी याद आने लगे।
  • ग़म इस कदर बढे कि घबरा कर पी गया;<br/>
इस दिल की बेबसी पर तरस खा कर पी गया;<br/>
ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना;<br/>
मैं आज सब जहां को ठुकरा कर पी गया!
    ग़म इस कदर बढे कि घबरा कर पी गया;
    इस दिल की बेबसी पर तरस खा कर पी गया;
    ठुकरा रहा था मुझे बड़ी देर से ज़माना;
    मैं आज सब जहां को ठुकरा कर पी गया!
    ~ Sahir Ludhianvi
  • तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है;<br/ >
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है;<br/ >
फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों;<br/ >
यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!
    तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है;
    खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है;
    फिर आवाज़ लगायी जाती है आ जाओ दर्दे दिलवालों;
    यहाँ दर्द-ऐ-दिल की दावा पिलाई जाती है!
  • मैं नहीं इतना घाफिल कि अपने चाहने वालों को भूल जाऊं;<br/>
पीता  ज़रूर हूँ लेकिन थोड़ी देर यादों को सुलाने के लिए!
    मैं नहीं इतना घाफिल कि अपने चाहने वालों को भूल जाऊं;
    पीता ज़रूर हूँ लेकिन थोड़ी देर यादों को सुलाने के लिए!
  • पीते थे शराब हम;<br />
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर;<br />
महफ़िल में गए थे हम;<br />
यारों ने पिलाई उसकी कसम देकर।
    पीते थे शराब हम;
    उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर;
    महफ़िल में गए थे हम;
    यारों ने पिलाई उसकी कसम देकर।
  • गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम;<br />
खुशी थोड़ी सी मिली, उसे खुश होकर पी गए हम;<br />
यूं तो ना थे हम पीने के आदी;<br />
शराब को तन्हा देखा, तो तरस खाकर पी गए हम।
    गम इस कदर मिला कि घबराकर पी गए हम;
    खुशी थोड़ी सी मिली, उसे खुश होकर पी गए हम;
    यूं तो ना थे हम पीने के आदी;
    शराब को तन्हा देखा, तो तरस खाकर पी गए हम।
  • हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं;
    इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं;
    हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में;
    कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं!
  • बोतल पे बोतल पीने से क्या फायदा, मेरे दोस्त;<br />
रात गुजरेगी तो उतर जाएगी!<br />
पीना है तो सिर्फ एक बार किसी की बेवफाई पियो;<br />
प्यार की कसम, उम्र सारी नशें में गुजर जाएगी!
    बोतल पे बोतल पीने से क्या फायदा, मेरे दोस्त;
    रात गुजरेगी तो उतर जाएगी!
    पीना है तो सिर्फ एक बार किसी की बेवफाई पियो;
    प्यार की कसम, उम्र सारी नशें में गुजर जाएगी!
  • मैं तोड़ लेता अगर वो गुलाब होती!
    मैं जवाब बनता अगर वो सवाल होती!
    सब जानते हैं मैं नशा नहीं करता,
    फिर भी पी लेता अगर वो शराब होती!