• जिंदगी दिन प्रतिदिन मजदूर हुई जा रही है,
    और लोग 'इंजीनियर साहब' कहके ताने दिए जा रहे हैं।
  • मच्छर ने आपको काटा ये उसका जुनून था,
    मच्छर ने आपको काटा ये उसका जुनून था,
    फिर आपने वहाँ खुजाया ये आपका सुकून था,
    चाह कर भी आप उसे मार नहीं पाये,
    ग़ौर फ़रमाइये हुज़ूर चाह कर भी आप उसे मार नहीं पाये,
    क्योंकि उसकी रगों में आप ही का ख़ून था।
  • अर्ज़ किया है चुप-चाप चल रहा था मैं मंज़िल की ओर,
    फिर ठेके पर नज़र पड़ी और हम गुमराह हो गए।
  • प्यारा सा चेहरा, मीठी सी आवाज़;
    मासूम सा दिल, स्वीट सी मुस्कान;
    परफेक्ट पेर्सोनलिटी, खुसमिजाज अंदाज़;
    ये तो हुई मेरी बात... और बताओ कैसे हो आप?
  • अर्ज़ किया है:<br />
वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो;<br />

ज़रा गौर फरमाइये:<br />
वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो;<br />
बड़ा ज़िद्दी है ये कमीना, पहले कुत्ते की तरह घसीटो।
    अर्ज़ किया है:
    वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो;
    ज़रा गौर फरमाइये:
    वो कहती अपने भाइयों से, मेरे आशिक़ को यूँ ना पीटो;
    बड़ा ज़िद्दी है ये कमीना, पहले कुत्ते की तरह घसीटो।
  • क्या बताए ग़ालिब वो गुस्से में भी हम पे रहम कर गई;
    लगाया कस के चांटा और सर्दी में गाल गरम कर गई।
  • मेरे इश्क की बोलिंग ने उसके दिल की विकेट बहुत उम्दा तरीके से गिराई;
    तकदीर ऐसी हमारी, अंपायर उसका बाप निकला, जिसने ऊँगली नहीं उठाई!
  • धन से बेशक गरीब रहो पर दिल से रहना धनवान;
    अक्सर झोपडी पे लिखा होता है सुस्वागतम;
    और महल वाले लिखते है कुत्ते से सावधान।
  • हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी, कि हर ख्वाहिश पे Rum निकले;
    जी भर के कभी ना पी पाया, क्योंकि जेब में पैसे कम निकले।
  • जब तुम अंगडाई लेते हो, हमारा दम निकल जाता है;
    ऐ ज़ालिम, ये बता नहाने में तुम्हारा क्या जाता है।