• तारीफ के काबिल हम कहाँ;
    चर्चा तो आपकी चलती है!
    सब कुछ तो है आपके पास;
    बस सींग और पूंछ की कमी खलती है!
  • सोचा था हर मोड़ पे "एस ऍम एस" करेंगे आपको;
    पर कमबख्त पूरी सड़क सीधी थी, कोई मोड़ ही नहीं आया!
  • दिली तमन्ना है कि मैं भी अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको;
    बस तू अपना वजन कम करले, तो मेरा काम आसान हो जाए!
  • भूल गए या, भुलाना चाहते हो;
    दूर कर दिया, या करना चाहते हो;
    अजमा लिया, या अजमाना चाहते हो;
    मेसेज कर रहे हो, या अभी और पैसे बचाना चाहते हो?
  • निकले जो दुनिया की भीड़ में तो ये जाना है;
    निकले जो दुनिया की भीड़ में तो ये जाना है;
    दुखी है हर वो शख्स, जिसे आज फिर काम पर जाना है!
  • बस इतना ही कहा था मैंने कि तेरे प्यार में बरसों से प्यासा हूँ सनम;
    और उसने पानी का पाइप मुंह में डालकर मोटर चला दी!
  • बोतल छुपा देना कफ़न में मेरे;
    शमशान में बैठ कर पिया करूँगा;
    खुदा मांगेगा जब हिसाब मुझसे;
    एक एक पैग बना कर दिया करूँगा!
  • हम समझते कम हैं, समझाते ज्यादा हैं;
    इसलिए सुलझते कम हैं, उलझते ज्यादा हैं!
  • हम हो गए तुम्हारे, तुम्हें सोचने के बाद;
    अब न देखेंगे किसी को, तुम्हें देखने के बाद;
    दुनिया छोड़ देंगे, तुम्हें छोड़ने के बाद;
    खुदा! माफ़ करे इतने झूठ बोलने के बाद!
  • हर रात हम तुम्हें याद किया करते है;
    सितारों में तुम्हें देखा करते है;
    लेकिन हमारे ख्वाबों में मत आना तुम;
    क्योंकि हम भूत से डरा करते है!