• मोहब्बत तो बस इक एहसास है;<br/>
जिस से हो जाए बस वही खास है!
    मोहब्बत तो बस इक एहसास है;
    जिस से हो जाए बस वही खास है!
  • ऐ ज़िंदगी काश तू ही रूठ जाती मुझ से;<br/>
ये रूठे हुए लोग मुझ से मनाये नहीं जाते!
    ऐ ज़िंदगी काश तू ही रूठ जाती मुझ से;
    ये रूठे हुए लोग मुझ से मनाये नहीं जाते!
  • मेरी पलकों की नमी इस बात की गवाह है;<br/>
मुझे आज भी तुमसे मोहब्बत बेपनाह है!
    मेरी पलकों की नमी इस बात की गवाह है;
    मुझे आज भी तुमसे मोहब्बत बेपनाह है!
  • हक़ीक़त हो तुम कैसे तुझे सपना कहूँ;<br/>
तेरे हर दर्द को मैं अपना कहूँ;<br/>
सब कुछ क़ुर्बान है मेरे यार पर;<br/>
कौन है तेरे सिवा जिसे मैं अपना कहूँ!
    हक़ीक़त हो तुम कैसे तुझे सपना कहूँ;
    तेरे हर दर्द को मैं अपना कहूँ;
    सब कुछ क़ुर्बान है मेरे यार पर;
    कौन है तेरे सिवा जिसे मैं अपना कहूँ!
  • मैं तुम्हारी कुछ मिसाल तो दे दूँ मगर जानां;<br/>
जुल्म ये है कि बे-मिसाल हो तुम!
    मैं तुम्हारी कुछ मिसाल तो दे दूँ मगर जानां;
    जुल्म ये है कि बे-मिसाल हो तुम!
  • इक ख़त कमीज़ में उसके नाम का क्या रखा;<br/>
क़रीब से गुज़रा हर शख्स पूछता है कौन सा इत्र है जनाब!
    इक ख़त कमीज़ में उसके नाम का क्या रखा;
    क़रीब से गुज़रा हर शख्स पूछता है कौन सा इत्र है जनाब!
  • ना मुस्कुराने को जी चाहता है;<br/>
ना आंसू बहाने को जी चाहता है;<br/>
लिखूं तो क्या लिखूं तेरी याद में;<br/>
बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है!
    ना मुस्कुराने को जी चाहता है;
    ना आंसू बहाने को जी चाहता है;
    लिखूं तो क्या लिखूं तेरी याद में;
    बस तेरे पास लौट आने को जी चाहता है!
  • तुम हंसो तो दिन, चुप रहो तो रातें हैं;<br/>
किस का ग़म, कहाँ का ग़म, सब फज़ूल बातें हैं!
    तुम हंसो तो दिन, चुप रहो तो रातें हैं;
    किस का ग़म, कहाँ का ग़म, सब फज़ूल बातें हैं!
  • एक मैं हूँ, किया ना कभी सवाल कोई;<br/>
एक तुम हो, जिसका कोई जवाब नहीं!
    एक मैं हूँ, किया ना कभी सवाल कोई;
    एक तुम हो, जिसका कोई जवाब नहीं!
  • वो इस तरह मुस्कुरा रहे थे, जैसे कोई गम छुपा रहे थे;<br/>
बारिश में भीग के आये थे मिलने, शायद वो आँसू छुपा रहे थे!
    वो इस तरह मुस्कुरा रहे थे, जैसे कोई गम छुपा रहे थे;
    बारिश में भीग के आये थे मिलने, शायद वो आँसू छुपा रहे थे!