• उनकी बेवफाई का सिलसिला कुछ यूँ चला मेरे शहर में;<br/>
कि पूरा शहर ही अब दिल लगाने से डरता है!
    उनकी बेवफाई का सिलसिला कुछ यूँ चला मेरे शहर में;
    कि पूरा शहर ही अब दिल लगाने से डरता है!
  • कभी तो आओ मेरी मोहब्बत भरी शायरियां पढ़ने;<br/>
दिल हार कर ही जाओगे, ये वादा है मेरा!
    कभी तो आओ मेरी मोहब्बत भरी शायरियां पढ़ने;
    दिल हार कर ही जाओगे, ये वादा है मेरा!
  • यूँ तेरे बाद किसी के न हुए हम;<br/>
मगर तुम पर दुनिया खतम ऐसा भी नहीं है।
    यूँ तेरे बाद किसी के न हुए हम;
    मगर तुम पर दुनिया खतम ऐसा भी नहीं है।
  • उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;<br/>
न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए!
    उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो;
    न जाने किस गली में ज़िंदगी की शाम हो जाए!
    ~ Bashir Badr
  • उम्र का तकाज़ा है जो सर्दी-जुकाम रहता है;<br/>
वरना फरवरी महीने में तो मुझे इश्क़ हुआ करता था!
    उम्र का तकाज़ा है जो सर्दी-जुकाम रहता है;
    वरना फरवरी महीने में तो मुझे इश्क़ हुआ करता था!
  • करते हैं मेरी कमियों का बयान इस तरह;<br/>
लोग अपने किरदार में फरिश्ते हो जैसे!
    करते हैं मेरी कमियों का बयान इस तरह;
    लोग अपने किरदार में फरिश्ते हो जैसे!
  • मुझे परखने में पूरी जिंदगी लगा दी उसने:<br/>
काश कुछ वक्त समझने में लगाया होता!
    मुझे परखने में पूरी जिंदगी लगा दी उसने:
    काश कुछ वक्त समझने में लगाया होता!
  • कौन कहता है कि हम झूठ नहीं बोलते<br/>
तुम एक बार खैरियत पूछ कर तो देखो!
    कौन कहता है कि हम झूठ नहीं बोलते
    तुम एक बार खैरियत पूछ कर तो देखो!
  • झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ, सुबह और शाम मैं,<br/>
सच बोलने की अदा ने हमसे, कई अजीज़ यार छीन लिये!
    झूठ बोलने का रियाज़ करता हूँ, सुबह और शाम मैं,
    सच बोलने की अदा ने हमसे, कई अजीज़ यार छीन लिये!
  • जो किताबों में है वो सब का है,<br/>
तू बता तेरा तजरबा क्या है!
    जो किताबों में है वो सब का है,
    तू बता तेरा तजरबा क्या है!
    ~ Nida Fazli