• उन्हें कामयाबी में सुकून नजर आया तो वो दौड़ते गए,<br/>
हमें सुकून में कामयाबी दिखी तो हम ठहर गए;<br/>
ख्वाहिशों के बोझ में बशर तू क्या क्या कर रहा है,<br/>
इतना तो जीना भी नहीं जितना तू मर रहा है!
    उन्हें कामयाबी में सुकून नजर आया तो वो दौड़ते गए,
    हमें सुकून में कामयाबी दिखी तो हम ठहर गए;
    ख्वाहिशों के बोझ में बशर तू क्या क्या कर रहा है,
    इतना तो जीना भी नहीं जितना तू मर रहा है!
  • ढूंढ लाया हूँ ख़ुशी की छाँव जिस के वास्ते;<br/>
एक ग़म से भी उसे दो-चार करना है मुझे!
    ढूंढ लाया हूँ ख़ुशी की छाँव जिस के वास्ते;
    एक ग़म से भी उसे दो-चार करना है मुझे!
    ~ Ghulam Hussain Sajid
  • जिंदगी पेंसिल की तरह है,<br/>
रोज छोटी होती जा रही है!
    जिंदगी पेंसिल की तरह है,
    रोज छोटी होती जा रही है!
  • मैं कहकशाओं में ख़ुशियाँ तलाशने निकला;<br/>
मिरे सितारे मेरा चाँद सब उदास रहे!
    मैं कहकशाओं में ख़ुशियाँ तलाशने निकला;
    मिरे सितारे मेरा चाँद सब उदास रहे!
    ~ Siraj Faisal Khan
  • पहाड़ियों की तरह खामोश है, आज के संबंध और रिश्ते;<br/>
जब तक हम न पुकारें, उधर से आवाज ही नहीं आती!
    पहाड़ियों की तरह खामोश है, आज के संबंध और रिश्ते;
    जब तक हम न पुकारें, उधर से आवाज ही नहीं आती!
  • अब तो ख़ुशी का ग़म है न ग़म की ख़ुशी मुझे;<br/>
बे-हिस बना चुकी है बहुत ज़िंदगी मुझे!
    अब तो ख़ुशी का ग़म है न ग़म की ख़ुशी मुझे;
    बे-हिस बना चुकी है बहुत ज़िंदगी मुझे!
    ~ Shakeel Badayuni
  • मैं चलता गया, रास्ते मिलते गये,<br/>
राह के काँटे फूल बनकर खिलते गये;<br/>
ये जादू नहीं, आशीर्वाद है मेरे अपनों का,<br/>
वरना उसी राह पर लाखों फिसलते गये!
    मैं चलता गया, रास्ते मिलते गये,
    राह के काँटे फूल बनकर खिलते गये;
    ये जादू नहीं, आशीर्वाद है मेरे अपनों का,
    वरना उसी राह पर लाखों फिसलते गये!
  • सच्चाई यह नहीं कि इंसान बदल जाते हैं;<br/>
सच तो यह है कि नकाब उतर जाते हैं!
    सच्चाई यह नहीं कि इंसान बदल जाते हैं;
    सच तो यह है कि नकाब उतर जाते हैं!
  • न ख़ुशी अच्छी है ऐ दिल न मलाल अच्छा है;<br/>
यार जिस हाल में रखे वही हाल अच्छा है!
    न ख़ुशी अच्छी है ऐ दिल न मलाल अच्छा है;
    यार जिस हाल में रखे वही हाल अच्छा है!
    ~ Jaleel Manikpuri
  • राह तकते जब थक गई मेरी आँखें;<br/>
फिर तुझे ढूंढने मेरी आँखों से आँसू निकले!
    राह तकते जब थक गई मेरी आँखें;
    फिर तुझे ढूंढने मेरी आँखों से आँसू निकले!