• किसी के इंतज़ार में हमने वक़्त को खाक़ में मिला दिया;<br/>
किसी ने इंतज़ार करा कर हमको खाक़ कर दिया!
    किसी के इंतज़ार में हमने वक़्त को खाक़ में मिला दिया;
    किसी ने इंतज़ार करा कर हमको खाक़ कर दिया!
  • हम तो जोड़ना जानते है, तोड़ना सीखा ही नहीं;<br/>
खुद टूट जाते हैं अक्सर लेकिन, किसी को छोड़ना सीखा ही नहीं!
    हम तो जोड़ना जानते है, तोड़ना सीखा ही नहीं;
    खुद टूट जाते हैं अक्सर लेकिन, किसी को छोड़ना सीखा ही नहीं!
  • करता नहीं है कोई कद्र यहाँ किसी के अहसासों की;<br/>
हर किसी को फिक्र है बस मतलब के ताल्लुक़ातो की!
    करता नहीं है कोई कद्र यहाँ किसी के अहसासों की;
    हर किसी को फिक्र है बस मतलब के ताल्लुक़ातो की!
  • कैसे लफ्जों में बयां करूँ मैं खूबसूरती तुम्हारी;<br/>
सुंदरता का झरना भी तुम हो, मोहब्बत का दरिया भी तुम हो!
    कैसे लफ्जों में बयां करूँ मैं खूबसूरती तुम्हारी;
    सुंदरता का झरना भी तुम हो, मोहब्बत का दरिया भी तुम हो!
  • करता नही है कोई कद्र यहाँ किसी के अहसासों की;<br/>
हर किसी को फिक्र है बस मतलब के ताल्लुक़ातो की!
    करता नही है कोई कद्र यहाँ किसी के अहसासों की;
    हर किसी को फिक्र है बस मतलब के ताल्लुक़ातो की!
  • मोहब्बत ख़त्म है लेकिन अभी रिश्ता नहीं टूटा;<br/>
कि जितना टूटना था दिल अभी उतना नहीं टूटा!
    मोहब्बत ख़त्म है लेकिन अभी रिश्ता नहीं टूटा;
    कि जितना टूटना था दिल अभी उतना नहीं टूटा!
  • लब तो खामोश रहेंगे ये वादा है तुमसे मेरा;
    अगर कह दें कुछ निगाहें तो खफा ना होना!
  • ये भी एक तमाशा है इश्क और मोहब्बत में;<br/>
दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है!
    ये भी एक तमाशा है इश्क और मोहब्बत में;
    दिल किसी का होता है और बस किसी का चलता है!
  • ये आईने क्या दे सकेंगे तुम्हे तुम्हारी शख्सियत की खबर;<br/>
कभी हमारी आँखो से आकर पूछो कितने लाजवाब हो तुम!
    ये आईने क्या दे सकेंगे तुम्हे तुम्हारी शख्सियत की खबर;
    कभी हमारी आँखो से आकर पूछो कितने लाजवाब हो तुम!
  • तुम स्नेह के सौदे भी अजीब करते हो,<br/>
बस जरा सा मुस्कुरा कर दिल खरीद लेते हो!
    तुम स्नेह के सौदे भी अजीब करते हो,
    बस जरा सा मुस्कुरा कर दिल खरीद लेते हो!