• बदला बदला सा है मिजाज, क्या बात हो गई;
    शिकायत हमसे है, या किसी और से मुलाकात हो गई!
  • आईना फैला रहा है खुदफरेबी का ये मर्ज;<br/>
हर किसी से कह रहा है आप सा कोई नहीं!Upload to Facebook
    आईना फैला रहा है खुदफरेबी का ये मर्ज;
    हर किसी से कह रहा है आप सा कोई नहीं!
  • मुस्कुराते इंसान की कभी जेबें टटोलना;
    हो सकता है रुमाल गीला मिले!
  • लगता है, आज ज़िन्दगी कुछ ख़फ़ा है;<br/>
चलिए छोड़िये, कौन सा पहली दफ़ा है!Upload to Facebook
    लगता है, आज ज़िन्दगी कुछ ख़फ़ा है;
    चलिए छोड़िये, कौन सा पहली दफ़ा है!
  • फासलें इस कदर हैं आजकल रिश्तों में;
    जैसे कोई घर खरीदा हो किश्तों में!
  • मोहब्बत थी, तो चाँद अच्छा था;<br/>
उतर गई, तो दाग भी दिखने लगे!Upload to Facebook
    मोहब्बत थी, तो चाँद अच्छा था;
    उतर गई, तो दाग भी दिखने लगे!
  • न जाने किसने पढ़ी है मेरे हक़ में दुआ;
    आज तबियत में जरा आराम सा है!
  • मेरा झुकना, और तेरा खुदा हो जाना;<br/>
यार, अच्छा नहीं इतना बड़ा हो जाना! Upload to Facebook
    मेरा झुकना, और तेरा खुदा हो जाना;
    यार, अच्छा नहीं इतना बड़ा हो जाना!
  • ख़ुदा तो उसकी आँखों में था;
    हम खामखाँ आयतें पढ़ते रहे!
  • कुछ हार गयी तकदीर कुछ टूट गए सपने;<br/>
कुछ गैरों ने बर्बाद किया कुछ छोड़ गए अपने!Upload to Facebook
    कुछ हार गयी तकदीर कुछ टूट गए सपने;
    कुछ गैरों ने बर्बाद किया कुछ छोड़ गए अपने!