• ख़ुशी और ग़म को समझता नहीं हूँ;<br/>
वही है हाल अब जो कहता नहीं हूँ;<br/>
ये वादों - कसमों को निभाना क्या है;<br/>
मैं तो इक पल भी तुम्हें भूलता नहीं हूँ!
    ख़ुशी और ग़म को समझता नहीं हूँ;
    वही है हाल अब जो कहता नहीं हूँ;
    ये वादों - कसमों को निभाना क्या है;
    मैं तो इक पल भी तुम्हें भूलता नहीं हूँ!
  • दिल से तो कई मौसम गुज़र जाते हैं;<br/>
आँखों से मगर  बरसात नहीं जाती!
    दिल से तो कई मौसम गुज़र जाते हैं;
    आँखों से मगर बरसात नहीं जाती!
  • न झगड़ें हम आपस में, झगड़कर टूट जायेंगे,<br/>
तुम्हारा आइना हम हैं, हमारा आइना तुम हो!
    न झगड़ें हम आपस में, झगड़कर टूट जायेंगे,
    तुम्हारा आइना हम हैं, हमारा आइना तुम हो!
  • दिल पे तन्हाई के सियाह अब्र छाने लगे हैं;<br/>
तेरे ग़म की लगता है बरसात होने वाली है!
    दिल पे तन्हाई के सियाह अब्र छाने लगे हैं;
    तेरे ग़म की लगता है बरसात होने वाली है!
  • माना की मरने वालों को भुला देतें है सभी;<br/>
मुझे जिंदा भूलकर तुमने तो कहावत ही बदल दी!
    माना की मरने वालों को भुला देतें है सभी;
    मुझे जिंदा भूलकर तुमने तो कहावत ही बदल दी!
  • तेरी बाँहों में हमें उम्र कैद की सज़ा चाहिए;<br/>
और ये सज़ा हमें बेवजह चाहिए!
    तेरी बाँहों में हमें उम्र कैद की सज़ा चाहिए;
    और ये सज़ा हमें बेवजह चाहिए!
  • नोंक है ये समय, बुलबुला जान है;<br/>
बीच में ख़ौफ है, जिन्दगी नाम है!
    नोंक है ये समय, बुलबुला जान है;
    बीच में ख़ौफ है, जिन्दगी नाम है!
  • इत्तेफ़ाक़ से तो नहीं टकराये हम सब ए दोस्तों;<br/>

थोड़ी ख्वाहिश तो खुदा की भी होगी!
    इत्तेफ़ाक़ से तो नहीं टकराये हम सब ए दोस्तों;
    थोड़ी ख्वाहिश तो खुदा की भी होगी!
  • साँसों की माला में पिरो कर रखे हैं तेरी चाहतो के मोती,<br/>
अब तो तमन्ना यही है कि बिखरूं तो सिर्फ तेरे आगोश में!
    साँसों की माला में पिरो कर रखे हैं तेरी चाहतो के मोती,
    अब तो तमन्ना यही है कि बिखरूं तो सिर्फ तेरे आगोश में!
  • वो मोहब्बतें जो तुम्हारे:

    वो मोहब्बतें जो तुम्हारे दिल में है,
    उससे जुबां पर लाओ और बयां कर दो;

    आज बस तुम कहो और कहते ही जाओ,
    हम बस सुनें ऐसा बे -ज़ुबान कर दो;

    आ जाओ के ऐसा टूट कर चाहूँ तुम्हें,
    हमारी मोहब्बत को मोहब्बत का निशान कर दो;

    अपने दिल में इस तरह छुपा लो मुझ को,
    राहों हमेशा इसमें इससे मेरा जहाँ कर दो|