• मैं इस काबिल तो नही कि कोई अपना समझे,
    पर इतना यकीन है, कोई अफसोस जरूर करेगा मुझे खो देने के बाद।
  • ये रस्म, ये रिवाज, ये कारोबार वफ़ाओं का सब छोड़ आना तुम;<br/>
मेरे बिखरने से जरा पहले लौट आना तुम।
    ये रस्म, ये रिवाज, ये कारोबार वफ़ाओं का सब छोड़ आना तुम;
    मेरे बिखरने से जरा पहले लौट आना तुम।
  • बरसो बाद तेरे करीब से गुज़रे,
    जो न संभलते तो गुज़र ही जाते।
  • हमें तो प्यार के दो लफ्ज ही नसीब नहीं,
    और बदनाम ऐसे जैसे इश्क के बादशाह थे हम।
  • जीतने का दिल ही नहीं करता अब मेरे दोस्त,
    एक शख्स को जब से हारा हूँ मैं।
  • आज कुछ नहीं है मेरे शब्दों के गुलदस्ते में ऐ दोस्त,<br/>
कभी-कभी मेरी ख़ामोशियाँ भी पढ़ लिया करो।
    आज कुछ नहीं है मेरे शब्दों के गुलदस्ते में ऐ दोस्त,
    कभी-कभी मेरी ख़ामोशियाँ भी पढ़ लिया करो।
  • छू ना सकूं आसमान, तो ना ही सही दोस्तो,
    आपके दिल को छू जाऊं, बस इतनी सी तमन्ना है।
  • तुम ने तो सोचा होगा, मिल जायेंगे बहुत चाहने वाले,
    ये भी ना सोचा कभी कि, फर्क होता है चाहतों में भी।
  • एक अज़ीब सा रिश्ता है मेरे और ख्वाहिशों के दरमियाँ,<br/>
वो मुझे जीने नही देतीं और मैं उन्हें मरने नही देता।
    एक अज़ीब सा रिश्ता है मेरे और ख्वाहिशों के दरमियाँ,
    वो मुझे जीने नही देतीं और मैं उन्हें मरने नही देता।
  • मेरे दिल ने जब भी कभी कोई दुआ माँगी है;
    हर दुआ में बस तेरी ही वफ़ा माँगी है;
    जिस प्यार को देख कर जलते हैं यह दुनिया वाले;
    तेरी मोहब्बत करने की बस वो एक अदा माँगी है।