Hindi SMS

Page: 1
"भाग्यवान!" भोजन के लिए बैठे पति ने पत्नी से पूछा - "यह तो सब्जी तुमने बनाई है, इसका नाम क्या है।"
"क्यों पूछ रहे हो?"
"क्योंकि अस्पताल में मुझसे भी तो पूछा जायेगा कि मैंने क्या खाया था?"
नींद नहीं आती रातों को;
चैन नहीं आता दिन को;
मैंने पूछा रब से क्या यही प्यार है?
तो रब ने कहा...
.
.
.
.
नहीं बेटा सभी व्यापारियों का यही हाल है।
सहेली (पिंकी से): तेरे कमरे में हर तरफ कपड़े बिखरे पड़े हुए हैं, इन्हे अलमारी में क्यों नहीं रखती?<br/>
पिंकी (मायूस होकर): जिससे कपड़े माँगकर लाई हूँ उससे अलमारी मांगते शर्म आती है।
सहेली (पिंकी से): तेरे कमरे में हर तरफ कपड़े बिखरे पड़े हुए हैं, इन्हे अलमारी में क्यों नहीं रखती?
पिंकी (मायूस होकर): जिससे कपड़े माँगकर लाई हूँ उससे अलमारी मांगते शर्म आती है।
दोस्त और बीवी को कभी विश्वास दिलाने की जरुरत नहीं पढ़ती।
क्योंकि दोस्त कभी शक़ नहीं करेगा;
और बीवी कभी यकीन नहीं करेगी।
पसीनों से लथपथ एक गर्मी ग्रस्त, अवशेष हूँ;
बिजली की निकम्मियत का, जर्जर संदेश हूँ।
हाँ, मैं उत्तर प्रदेश हूँ।
गणपति जी का सर पे हाथ हो;<br/>
हमेशा उनका साथ हो;<br/>
खुशियों का हो बसेरा;<br/>
करें शुरुआत बप्पा के गुणगान से<br/>
मंगल फिर हर काम हो।<br/>
गणेश चतुर्थी की शुभ कामना
गणपति जी का सर पे हाथ हो;
हमेशा उनका साथ हो;
खुशियों का हो बसेरा;
करें शुरुआत बप्पा के गुणगान से
मंगल फिर हर काम हो।
गणेश चतुर्थी की शुभ कामना
ऊँगली पकड़ कर हमें चलना सिखाया;<br/>
गिरने के बाद फिर उठना सिखाया;<br/>
तुम्हारी वजह से आज हम हैं सफलता के मुकाम पे;<br/>
हैं नतमस्तक शीश झुका कर तुम्हारे सम्मान में।<br/>
शिक्षक दिवस की शुभ कामनायें!
ऊँगली पकड़ कर हमें चलना सिखाया;
गिरने के बाद फिर उठना सिखाया;
तुम्हारी वजह से आज हम हैं सफलता के मुकाम पे;
हैं नतमस्तक शीश झुका कर तुम्हारे सम्मान में।
शिक्षक दिवस की शुभ कामनायें!
बहुत कुछ सिखा जाती है ये ज़िंदगी;<br/>
हँसा के भी रुला जाती है ये ज़िंदगी;<br/>
जी सको जितना उतना जी लो दोस्तो;<br/>
क्योंकि बहुत कुछ बाकी रह जाता है और ख़त्म हो जाती है ज़िंदगी।
बहुत कुछ सिखा जाती है ये ज़िंदगी;
हँसा के भी रुला जाती है ये ज़िंदगी;
जी सको जितना उतना जी लो दोस्तो;
क्योंकि बहुत कुछ बाकी रह जाता है और ख़त्म हो जाती है ज़िंदगी।
जब हम इन्हें जलायें ये फूट-फूट कर रोने लग जायें;<br/>
खुश होते हैं हम सब देख, खत्म होने पर हम मुरझायें।
जब हम इन्हें जलायें ये फूट-फूट कर रोने लग जायें;
खुश होते हैं हम सब देख, खत्म होने पर हम मुरझायें।

बात करने से पहले सोचता हूँ क्या कहना है;<br/>
बात होने के बाद फिर कुछ कहना रह जाता है;<br/>
अगर होता है इतना खूबसूरत ये प्यार;<br/>
तो फिर क्यों अक्सर ये अधूरा रह जाता है।
बात करने से पहले सोचता हूँ क्या कहना है;
बात होने के बाद फिर कुछ कहना रह जाता है;
अगर होता है इतना खूबसूरत ये प्यार;
तो फिर क्यों अक्सर ये अधूरा रह जाता है।

Quotes

दूसरी शादी: अनुभव पर आशा की विजय।

Trivia

To remove Ink from Clothes:
Put Toothpaste on the Ink Spots generously and let it dry completely, then wash.

Graffiti

Glass house jokes are always transparent.