• ग़ुस्से में आप ख़ुद को भी नहीं संभाल सकते, लेकिन प्रेम से आप पूरी दुनिया को संभाल सकते हो!
    ग़ुस्से में आप ख़ुद को भी नहीं संभाल सकते, लेकिन प्रेम से आप पूरी दुनिया को संभाल सकते हो!
  • देखकर जमाने का चलन, हमने भी बदल दिए `मिज़ाज` अपने;<br/>
रिश्ते सबसे हैं मगर `वास्ता` किसी से नहीं!
    देखकर जमाने का चलन, हमने भी बदल दिए "मिज़ाज" अपने;
    रिश्ते सबसे हैं मगर "वास्ता" किसी से नहीं!
  • किसी के दिल को चोट पहुँचा कर माफ़ी माँगना बहुत आसान होता है लेकिन खुद चोट खा कर किसी को माफ़ करना बहुत मुश्किल!
    किसी के दिल को चोट पहुँचा कर माफ़ी माँगना बहुत आसान होता है लेकिन खुद चोट खा कर किसी को माफ़ करना बहुत मुश्किल!
  • अगर आप सही हो तो कुछ भी साबित करने की कोशिश मत करो!<br/>
बस सही बने रहो, गवाही वक़्त खुद दे देगा!
    अगर आप सही हो तो कुछ भी साबित करने की कोशिश मत करो!
    बस सही बने रहो, गवाही वक़्त खुद दे देगा!
  • जिनका स्वभावअच्छा होता है, उन्हें कभी प्रभाव दिखाने की जरूरत नहीं होती!
    जिनका स्वभावअच्छा होता है, उन्हें कभी प्रभाव दिखाने की जरूरत नहीं होती!
  • इंसान बिना मुहर्त का पैदा होता है और बिना मुहर्त के मर भी जाता है!<br/>
फिर सारी ज़िंदगी शुभ मुहर्त के पीछे क्यों भागता है!
    इंसान बिना मुहर्त का पैदा होता है और बिना मुहर्त के मर भी जाता है!
    फिर सारी ज़िंदगी शुभ मुहर्त के पीछे क्यों भागता है!
  • कपड़ों की मैचिंग बिठाने से सिर्फ शरीर सुंदर दिखेगा।<br/>
रिश्तों व हालातों से, मैचिंग बिठा लीजिये पूरा जीवन सुंदर हो जाएगा।
    कपड़ों की मैचिंग बिठाने से सिर्फ शरीर सुंदर दिखेगा।
    रिश्तों व हालातों से, मैचिंग बिठा लीजिये पूरा जीवन सुंदर हो जाएगा।
  • जब जल गंदा हो तो उसे हिलाते नहीं, बल्कि शांत छोड़ देते हैं, जिससे गंदगी अपने आप नीचे बैठ जाती है।<br/>
इसी प्रकार जीवन में परेशानी आने पर बेचैन होने के बजाय शांत रहकर विचार करें, हल जरूर निकलेगा।
    जब जल गंदा हो तो उसे हिलाते नहीं, बल्कि शांत छोड़ देते हैं, जिससे गंदगी अपने आप नीचे बैठ जाती है।
    इसी प्रकार जीवन में परेशानी आने पर बेचैन होने के बजाय शांत रहकर विचार करें, हल जरूर निकलेगा।
  • स्वीकार करने की हिम्मत और सुधार करने की नियत हो तो इंसान बहुत कुछ सीख सकता है!
    स्वीकार करने की हिम्मत और सुधार करने की नियत हो तो इंसान बहुत कुछ सीख सकता है!
  • कदर और वक्त भी कमाल के होते हैं!<br/>
जिसकी कदर करो वो वक्त नहीं देता और जिसको वक्त दो, वो कदर नहीं करता!
    कदर और वक्त भी कमाल के होते हैं!
    जिसकी कदर करो वो वक्त नहीं देता और जिसको वक्त दो, वो कदर नहीं करता!