• हम मौत को बुरा नहीं कहते यदि;
    हम जानते कि वास्तव में मरा कैसे जाता है।
  • प्रतिभा का विकास शांत वातावरण में होता है;
    और;
    चरित्र का विकास मानव जीवन के तेज प्रवाह में।
  • पापी चाहे कितनी भी चतुराई से पाप करे;
    अंत में पापी को पाप का दण्ड भुगतना ही पड़ता है।
  • जीवन में ज़ख़्म बड़े नहीं होते हैं;
    उनको भरने वाले बड़े होते हैं;
    रिश्ते बड़े नहीं होते हैं;
    लेकिन रिश्तों को निभाने वाले बड़े होते हैं।
  • आप कितना जल्दी कार्य करते हैं, इसे लोग याद नहीं रखते;
    बल्कि;
    कार्य आप कितने अच्छे तरीके से करते हैं, यह जरूर याद रखा जाता है।
  • गलती निकालने के लिए 'भेजा' चाहिए;
    पर;
    गलती कबूल करने के लिए 'कलेजा' चाहिए।
  • अगर कोई सर्प जहरीला नहीं है तब भी उसे जहरीला दिखना चाहिए;
    वैसे दंश भले ही न दो पर दंश दे सकने की क्षमता का दूसरों को अहसास करवाते रहना चाहिए।
  • लोग उस वक्त हमारी कद्र नहीं करते जब हम अकेले हों;
    बल्कि लोग उस वक्त हमारी कदर करते हैं, "जब वो अकेले हों।"
  • किसी एक विचार को अपने जीवन का लक्ष्य बनाओ;
    कुविचारों का त्यागकर केवल उसी विचार के बारे में सोचो;
    तुम पाओगे कि सफलता तुम्हारे कदम चूम रही है।
  • दूसरों की गलतियों से अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखो, सीखने को तुम्हारी आयु कम पड़ेगी।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT