• किसी भी व्यक्ति को बहुत ईमानदार नहीं होना चाहिए;
    सीधे वृक्ष और व्यक्ति पहले काटे जाते हैं।
  • एक नफरत ही है जिसे दुनिया लम्हों में ही जान लेती है;
    चाहत का पता लगने में तो जमाने बीत जाते हैं।
  • खुद का अपमान कराके जीने से तो अच्छा है मर जाना;
    क्योंकि प्राणों को त्यागने से केवल एक ही बार कष्ट होता है;
    पर अपमानित होकर जीवित रहने से आजीवन दुःख होता है।
  • किसी को नजरों में ना बसाओ;<br/>
क्योंकि नजरों में सिर्फ सपने बसते हैं;<br/>
बसाना ही है तो दिल में बसाओ;<br/>
क्योंकि दिल में सिर्फ अपने बसते हैं।
    किसी को नजरों में ना बसाओ;
    क्योंकि नजरों में सिर्फ सपने बसते हैं;
    बसाना ही है तो दिल में बसाओ;
    क्योंकि दिल में सिर्फ अपने बसते हैं।
  • अपने मिशन में कामयाब होने के लिए;<br/>
आपको अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्रचित होना पड़ेगा।
    अपने मिशन में कामयाब होने के लिए;
    आपको अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्रचित होना पड़ेगा।
  • मनुष्य अपने अभाव से इतना दुखी नहीं है;
    जितना दूसरे के प्रभाव से दुखी होता है।
  • जिस व्यक्ति के हृदय में दया और प्रेम बसते हैं;<br/>

जिसका मुख सदैव अमृतवाणी बोलता है;<br/>

और जिसके नेत्रों में विनय दिखता है;<br/>

`वही श्रेष्ठ मानव है।`
    जिस व्यक्ति के हृदय में दया और प्रेम बसते हैं;
    जिसका मुख सदैव अमृतवाणी बोलता है;
    और जिसके नेत्रों में विनय दिखता है;
    "वही श्रेष्ठ मानव है।"
  • जो आपसे दिल से बात करता हो;
    उसे कभी दिमाग से जवाब मत देना।
  • गरीब की आँखों में आशा;
    और;
    आमीर की आँखों में घमंड हमेशा रहता है।
  • क्रोध एक ऐसा तेज़ाब है;
    जो जिस चीज पे डाला जाता है उससे ज्यादा उस पात्र को नुकसान पहुंचाता है, जिसमें वो रखा हो।
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT